बस्ती: जिला पंचायत राज अधिकारी शिवशंकर सिंह ने वित्तीय अनियमितता के आरोप में दो ग्राम पंचायत सचिवों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर संबंधित ब्लाक मुख्यालयों से संबद्ध कर दिया है।

हर्रैया विकास खंड में तैनात पंचायत सचिव संदीप कुमार पर आरोप है कि जब वह दुबौलिया ब्लाक में तैनात थे तो उनके प्रभार की ग्राम पंचायत महुलानी बुजुर्ग में बिना फर्म का चयन किए तीन लाख रुपये से अधिक की धनराशि का फर्जी तरीके से भुगतान कर दिया। स्वच्छ भरत मिशन के जिला सलाहकार और एडीओ पंचायत दुबौलिया की रिपोर्ट में उन्हें प्रथम ²ष्टया दोषी पाया गया। इसी प्रकार परशुरामपुर में तैनात पंचायत सचिव रमाकांत वर्मा ने सल्टौआ गोपालपुर में तैनाती के दौरान अपने प्रभार के गांव पोखरभिटवा में मनरेगा से तालाब की खोदाई के दौरान वित्तीय अनियमितता बरती। तालाब की खोदाई मनरेगा मजदूरों से न कराकर जेसीबी से कराई गई। दोनो मामलों में पंचायत सचिवों को निलंबित कर जांच अधिकारी नियुक्त कर दिए गए हैं। उन्हें 15 दिन के अंदर आरोप पत्र प्रस्तुत करने को कहा गया है।

1443 लोगों की आई कोविड रिपोर्ट, सभी निगेटिव

जिले में सोमवार को 1443 लोगों की कोविड जांच रिपोर्ट जारी की गई, जिसमें सभी निगेटिव रहे।

सीएमओ डा.अनूप कुमार ने बताया कि जिले में कोई सक्रिय केस नहीं है। जिला पूरी तरह से कोविड मुक्त है। यहां संक्रमितों की कुल संख्या 11714 है। इसमें से 11384 स्वस्थ हो चुके हैं। कोरोना संक्रमण से 330 की मौत हो चुकी है। अभी भी 2091 लोगों की जांच रिपोर्ट प्रतीक्षारत है। कोविड जांच के लिए सोमवार को विभिन्न टीमों ने शहर व गांवों से 1011 सैंपल लिए। इसी के साथ ही अब तक जिले में आठ लाख 20 हजार 254 सैंपल लिए गए, जिसमें से आठ लाख 18 हजार 163 की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है। आठ लाख छह हजार 449 रिपोर्ट निगेटिव रही। नोडल अधिकारी नगरीय क्षेत्र डा.एके कुशवाहा की देखरेख में कोविड जांच के लिए रेलवे स्टेशन, बड़ेवन ओवरब्रिज के पास और रोडवेज बस व स्टेशन परिसर से भी यात्रियों के सैंपल लिए गए। सीएमओ ने लोगों से अपील किया है कि कोरोना जांच में सहयोग करें। बाजार, भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर जाने पर नियमित मास्क लगाएं साथ ही दो गज की दूरी बनाएं रखें। इससे कोविड संक्रमण का खतरा कम हो जाएगा।

Edited By: Jagran