बस्ती : भविष्य निधि का पैसा सुरक्षित वापस लाने के लिए अभियंता और कर्मचारी अब आर-पार की लड़ाई लड़ने के मूड में हैं। मंगलवार को दूसरे दिन भी मुख्य अभियंता कार्यालय पर जिले भर के अभियंता एकत्र हुए। यहां प्रदर्शन कर मांगों को लेकर हुंकार भरी। अभियंताओं ने कहा सरकार पीएफ फंड की वापसी का लिखित आश्वासन दे।

विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले दो दिन से अभियंता पीएफ फंड के लिए आंदोलित हैं। कार्य-बहिष्कार कर सरकार को अपनी ताकत दिखा रहे। अध्यक्षता कर रहे कर्मचारी नेता अशर्फी लाल ने कहा सरकार का ढुलमुल रवैया अभी भी कायम हैं। कर्मचारियों की गाढ़ी कमाई को हथियाने का षड्यंत्र किसी भी दशा में साकार नहीं होगी। संचालन जोनल मंत्री राम सहाय ने किया।

अधिशासी अभियंता हेमंत कुमार सिंह ने कहा पीएफ घोटाले के संबंध में पावर कार्पोरेशन व सरकार की जवाबदेही है। पीएफ का पैसा ट्रस्ट में लौटाने का लिखित आश्वासन चाहिए। गजेंद्र श्रीवास्तव ने कहा पीएफ फंड को सरकार-प्रबंधन द्वारा ट्रस्ट में जमा नहीं कराया गया तो जेल भरो आंदोलन होगा। अभियंता संघ के अध्यक्ष मनोज कुमार यादव ने कहा कि घोटाले में शामिल दोषियों के विरुद्ध सीबीआइ जांच हो। ट्रस्ट की संपत्ति से फंड की भरपाई हो। एक्सईएन संतोष कुमार ने कहा कि कार्य-बहिष्कार से सरकार बौखलाहट में है। एक्सईएन घनेंद्र सिंह ने कहा अब आमरण अनशन होगा। इं. मोहित कुमार ने कहा कर्मचारियों में आक्रोश है। बाल-बच्चों के भविष्य के लिए जमा किए गए पैसों को सरकारी तंत्र के सामने ही हजम किया जा रहा है। इस दौरान आनंद गौतम, अजय सिंह, सालिकराम चौधरी, कुर्बान अली, कमलाकांत श्रीवास्तव, छोटेलाल, अमित कुमार, अजीत त्रिपाठी, बजरंग बली, अजीत, अली अहमद, रामजीत, दुर्गेश नंदन श्रीवास्तव, शैलेश यादव, संतोष यादव, महेंद्र व विनोद मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस