बस्ती: सल्टौआ गोपालपुर विकास खंड के पड़री गांव में बुधवार की रात संत रविदास की जयंती मनाई गई। वक्ताओं ने संत के जीवन चरित्र पर प्रकाश डालते हुए उन्हें महान समाज सुधारक बताया। इस मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया।

वक्ताओं ने संत रविदास के जीवन पर विस्तार से प्रकाश डाला। कहा कि उस समय समाज में छुआछूत व पाखंड फैला हुआ था। शूद्रों का मंदिर में प्रवेश वर्जित था। निर्गुण ब्रह्म के उपासक संत रविदास शरीर को ही मंदिर मानते थे। उन्होंने आडंबरों को समाप्त करने के लिए समाज को जागरूक करने का काम जीवनभर किया। कार्यक्रम आयोजक भगवान दास बौद्ध, राम बक्श बौद्ध, नेबूलाल, हरिकेश एडवोकेट, विजय शंकर चक्रवर्ती, शैलेन्द्र कुमार गौतम, इन्द्रजीत, नंगा गौतम, लवकुश, हरिश्चन्द्र, प्रेमचंद्र, अमरनाथ, प्रदीप कुमार, तुलसीराम, राम नरायन, सुबास चंद्र, राम निहाल, श्याम सुन्दर, अशोक कुमार, शिवदास, राम तेज, विमला देवी, महंथी देवी, सरिता, शोभा, सरोजा, गुलाबा देवी, झिनकनी देवी, कैलाश कुमारी, साधना की मौजूदगी रही।

Posted By: Jagran