बस्ती : लोगों का सफर सुगम हो इसलिए सरकार ने गड्ढों में तब्दील सड़कों को दुरुस्त करने का अभियान चलाया है। जनपद में कई किमी सड़कों को गड्ढा मुक्त बनाने के लिए चिह्नित किया गया है। कुछ को तो आनन-फानन में गड्ढा मुक्त कर दिय गया लेकिन कुछ ऐसी भी हैं जो शहर की नाक के नीचे हैं, जर्जर व बदहाल हैं। उदाहरण के लिए दो हाईवे यानी गोरखपुर लखनऊ व लुंम्बिलनी- दुद्धी मार्ग को पटेल चौक से हरदिया तक जोड़ने वाली छोटी सी सड़क है। इस सड़क के दोनों छोर पर वाहन फर्राटा भर रहे और यहां हिचकोले खाते हैं।

छह साल पहले नेशनल हाइवे के पटेल चौक से हरदिया चौराहा तक सड़क की मरम्मत का कार्य हुआ। मरम्मत के कुछ दिनों बाद ही सड़क को चौड़ीकरण, ऊंचीकरण के नाम पर पटरियों को दो-दो मीटर खोद दिया गया। तभी से यह सड़क वैसे ही पड़ी है। गिट्टियां गिरा का छोड़ दी गई हैं। वहीं गिट्टी आज राहगीरों को पीड़ा दे रही है। सड़क में गड्ढे वाहनों को हिचकोले खिला रहे हैं। जरा सी चूक पर लोग घायल हो रहे हैं। महज एक किमी की इस सड़क पर 10 से 15 की स्पीड से ही वाहन किसी तरह चल पाते हैं। खोराखार, हरदिया, बसिया, डिढ़ौवा, महरौआ समेत 10 पुरवा इस मार्ग से जुड़े हैं। यहां की 20 हजार से अधिक आबादी प्रभावित हैं।

सरकार के गड्ढा मुक्त अभियान की हवा निकल गई है। सड़क पर जनप्रतिनिधि और प्रशासन ध्यान नहीं है। चौड़ीकरण के नाम पर सड़क खोदी गई, तब से वैसे ही है।

रामचंद्र चौधरी

सड़क पर सफर मुश्किल हो गया है। कब राहगीर गिर जाएं कुछ कहा नहीं जा सकता। प्रमुख मार्ग होने के बाद भी सड़क बदहाल है। लोगों को आने-जाने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

जितेंद्र चौधरी

जब से होश संभाला तब से यह सड़क ऐसे ही बदहाल है। बड़े-बड़े गड्ढे। उखड़ी गिट्टियां, हमेशा दुर्घटना के दावत दे रहे हैं। 1 किमी की इस सड़क पर सफर के लिए सोचना पड़ता है।

दीपक

वाहनों को धीमी रफ्तार से आगे बढ़ाना पड़ रहा है। कब आटो पलट जाए यह नहीं कह सकते। सवारियों को भी समस्या होती है। वाहन जल्द खराब हो जा रहे हैं।

राजकुमार

सड़क निर्माण की योजना बनाई गई है। जल्द ही सड़क का निर्माण कार्य शुरू होगा। चौड़ीकरण के साथ सड़क का ऊंचा किया जाएगा। मानसून की वजह से सड़क का काम रुका था।

इं. शुभनारायन, एक्सईएन निर्माण

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस