बस्ती : पूर्वांचल जिलों के लिए नासूर बनी जापानी इंसेफ्लाइटिस (जेई) और एक्यूट इंसेफ्लाइटिस ¨सड्रोम (एईएस) बीमारी बच्चों पर कहर बरपा रही। चिकित्सक इस बीमारी को कंट्रोल करने में हांफ रहे। सोमवार को तेज बुखार से पीड़ित एक बच्चे की हालत बिगड़ गई और उसको लखनऊ मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। मरीज को एईएस मानकर चिकित्सक इलाज कर रहे थे। जेई-एईएस जांच के लिए ब्लड टेस्ट भेजा है।

जिले में एईएस पीड़ितों की संख्या लगातार बढ़ रही है। बता दें कि सिद्धार्थनगर जिले के ग्राम ताहपुर थाना इटवा भानपुर निवासी आरुषी पुत्री अंगद मोदनवाल तीन माह को गत 22 जून को जिला अस्पताल में भर्ती किया गया। तेज बुखार होने पर पीआइसीयू में एईएस मानकर चिकित्सक डा. पीके चौधरी ने इलाज शुरू किया। अचानक स्थिति बिगड़ने पर बच्चे को लखनऊ रेफर करना पड़ा। प्रमुख अधीक्ष जिला अस्पताल डा. ओपी ¨सह ने बताया कि जेई-एईएस मरीजों और तेज बुखार से पीड़ितों के इलाज की पूरी व्यवस्था है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस