बस्ती: दिवाली के दिन गुरुवार को मां लक्ष्मी पूजा का उत्सव चरम पर रहा। घरों में पूजा अर्चना के बाद लोग परिवार के साथ देवी दर्शन को निकल पड़े। शहर के दर्जन भर स्थानों पर स्थापित देवी प्रतिमाएं आस्था का केंद्र रहीं। मां लक्ष्मी के पंडालों में पूजन अर्चन का दौर शाम ढलते ही शुरू हुआ जो देर रात्रि तक चलता रहा। इस बीच श्रद्धालु एक पंडाल से दूसरे पंडाल तक दर्शन करते रहे। तीन दिनों से चल रहा लक्ष्मी पूजा एक बार फिर यादगार बना। चहुंओर देवी गीतों की गूंज और पंडालों में लग रहे जयकारे से माहौल भक्तिमय बना रहा। महिलाएं, बच्चे, पुरुष खासी तादाद जुट रहे है। हर कोई माता रानी का दर्शन अपनी मुरादें मांगी। दिवाली के दिन लक्ष्मी जी की पूजा का विशेष महत्व है। इस नाते देवी पंडाल भक्तों से गुलजार रहे। सुनहले रूप वाली धन की देवी की धूप, कपूर, अगरबत्ती के साथ आराधना की गई। हर किसी ने माता रानी का आह्वान किया। सुख, समृद्धि की मन्नतें मांगी गई। जगमग रोशनी से नहाए पंडाल और उसमें श्रद्धालुओं की भीड़ देखते ही बन रही थी। शहर के मालवीय रोड, गांधीनगर, पांडेय बाजार, कंपनीबाग, कटरा में लक्ष्मी प्रतिमाएं आकर्षण का केंद्र रहीं। मंदिरों में भी पूजन अर्चन का दौर दिन भर चला। शाम ढलते ही लोग नजदीकी मंदिरों में देवी देवताओं को साक्षी मान दीप जलाए। शहर से सटे बाबा भदेश्वर नाथ धाम, दुर्गा मंदिर रौता चौराहा, काली मंदिर आवास विकास, मंगला महाकाली मंदिर पिकौरा शिवगुलाम, मां काली मंदिर रेलवे स्टेशन, हनुमानगढ़ी गांधीनगर, रामजानकी मंदिर गांधी नगर में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। दीपों का थाल सजाए महिलाएं जहां इन मंदिरों की ओर रुख करती रही वहीं सहयोग में बच्चे भी खूब खुश नजर आए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस