बस्ती: मंगलवार को जिलाधिकारी चुपके से खुद आरटीओ कार्यालय की संस्कृति जांचने पहुंच गईं। कार्यालय में सन्नाटा और बाहर भीड़,यह माहौल देख वह सबकुछ समझ गईं। बताया चार-पांच की संख्या में अनधिकृत लोगों को पकड़ा गया है। इनके बारे में पूरी जानकारी हासिल की जा रही है। डीएम ने पूरी जांच प्रक्रिया की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी भी कराई। बायोमीट्रिक कक्ष में पंकज यादव की भूमिका संदिग्ध पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दे दिया है।

जिलाधिकारी ने बताया आरटीओ कार्यालय का माहौल अजग गजब दिखा। टेबल पर पैर रखकर एक युवक बैठा था पूछताछ करते ही धीरे से खिसक लिया। उसके फोटो ले लिए गए हैं। चार-पांच की संख्या में अनधिकृत लोग भी यहां मिले। बायोमेट्रिक कक्ष के बारे में उनको तमाम शिकायतें मिली थीं। कक्ष में सन्नाटा पसरा था। पंकज यादव ने बताया कोई आवेदन पेंडिग नहीं है जबकि उसके मेज के दराज में 13 आवेदन पड़े हुए थे। इस बारे में पूछने पर वह कोई जवाब नहीं दे पाया। उसके खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दे दिए गए हैं।

जिलाधिकारी ने कार्यालय परिसर के साथ पटल का भी निरीक्षण किया। कार्यालय की दीवारों पर पान और गुटखा की पीक देख नाराज हुई डीएम ने आरटीओ से गंदगी फैलाने वालों पर जुर्माना लगाने को कहा।

डीएम ने यहां एक एक कक्ष का निरीक्षण किया और अभिलेखों को देखा। अभिलेखों का रखरखाव ठीक न मिलने पर नाराजगी जताई और इसे दुरुस्त करने का निर्देश दिया। कैश अनुभाग में ताला लगा मिला। शौचालय साफ सुथरा न मिलने और उसमें पानी न आने पर इसे ठीक कराने का निर्देश दिया। इस दौरान विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

एसडीएम से डीएम ने मांगी रिपोर्ट

जिलाधिकारी ने निरीक्षण के समय अतिरिक्त उपजिलाधिकारी आशा राम वर्मा को तलब किया। वीडियो और फोटो मुहैया कराते हुए आरटीओ कार्यालय के बारे में गहनता से जांच कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने को कहा है।

............

प्राथमिक विद्यालय छविलहा खोर भी पहुंची डीएम

जिलाधिकारी माला श्रीवास्तव एआरटीओ कार्यालय का निरीक्षण करने के बाद कुछ ही दूर स्थित प्राथमिक विद्यालय छबिलहा खोर पहुंची। इस दौरान प्रधानाध्यापक माधुरी सिंह मौजूद मिलीं। निरीक्षण के दौरान विद्यालय परिसर में बड़ी बड़ी घास पाई गई। परिसर में पानी निकलने का कोई रास्ता न होने से कचरा फैला हुआ था और गंदगी थी। शौचालय में भी गंदगी मिली, विद्यालय भवन की दीवारों पर सीलन पाया गया। विद्यालय में पौधारोपण भी नहीं हुआ था। डीएम ने पौध लगाने का निर्देश दिया। विद्यालय में कुल 54 बच्चे पंजीकृत थे जिनमें 31 मौजूद मिले। डीएम ने कुछ बच्चों से सवाल भी पूछे। डीएम यहां से चलने लगीं तो बच्चों ने बैठने के लिए बेंच मांग लिया। चलते समय डीएम ने बच्चों की मांग पूरी करने का आश्वासन भी दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप