बस्ती: अपराध से निपटने और अपराधियों पर नजर रखने के लिए जनता के सहयोग से पुलिस प्रशासन द्वारा बस्ती शहर के हृदय स्थल गांधीनगर में लगवाये गए चार सीसीटीवी कैमरों में से दो मोतिया¨बद के शिकार हो गए तो दो मेले में चले गए जो अब तक वापस नहीं मिले।

बस्ती शहर के प्रमुख बाजार गांधीनगर में सुरक्षा व्यवस्था और असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखने के उद्देश्य से पांच साल पहले चार सीसी टीवी कैमरे लगाये गए थे। इन्हे गांधीनगर पुलिस बूथ के सामने सड़क पर लगे विद्युत पोल में लगाया गया था। इसकी मानीट¨रग के लिए पुलिस बूथ में मानीटर सहित पूरा सेट लगाया गया था। इन कैमरों की नजर गांधीनगर में पांच सौ मीटर दूरी तक थी। लेकिन रखरखाव पर ध्यान न देने के कारण दो सीसीटीवी कैमरे दो साल से खराब पड़े हैं। जिससे इन सीसीटीवी कैमरों से रिकॉर्डिंग नहीं हो पा रही है। महज दो कैमरों पर ही शहर के इस महत्वपूर्ण बाजार पर नजर रखने की जिम्मेदारी थी। अब वह दोनों कैमरे भी नदारद हैं। गांधीनगर पुलिस चौकी प्रभारी मीरा चौहान ने बताया कि भद्रेश्वरनाथ मेला में लगाने के लिए गांधीनगर के दो सीसीटीवी कैमरे भेजे गए थे, जो अब तक वापस नहीं आए।

............

गांधीनगर में चार सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने की जानकारी है, इनमें दो खराब हैं। दो सीसीटीवी कैमरे की जानकारी नहीं है, यदि यह मेले में लगाए गए थे तो इन्हे वापस मंगाकर फिर से गांधीनगर में लगवा दिया जाएगा।

आलोक ¨सह, सीओ सिटी

.............

खराब पड़े सीसीटीवी कैमरे को ठीक कराए प्रशासन

व्यवसायी कृष्ण मुरारी ने कहा कि चार सीसीटीवी कैमरे में दो का लंबे समय से खराब रहना दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे बाजार में असामाजिक तत्वों पर नजर रखने में दिक्कत हो रही है। सामाजिक कार्यकर्ता जयप्रकाश चौबे ने कहा कि सीसीटीवी लगाने का मकसद बाजार में हो रही गतिविधियों पर नजर रखना है, मगर इनके खराब होने से ऐसा नहीं हो पा रहा है। हरदी कप्तानगंज निवासी व गांधीनगर में खरीददारी करने आए लवकुश ने कहा कि खराब सीसीटीवी को बदलकर उसकी जगह नया लगवाना चाहिए, जिससे अपराधिक गतिविधियों पर नजर रखी जा सके। दुकानदार दीपू ने कहा कि सुरक्षा की दृष्टि से इन्हें लगाया गया था, मगर रखरखाव के अभाव में खराब होते जा रहे हैं।

Posted By: Jagran