जासं.बस्ती : कोविड संक्रमण के चलते लंबे समय बाद आटो और रियल सेक्टर में नवरात्र के दौरान उछाल देखने को मिला। बाजार में पहले से अधिक चहल-पहल देखने को मिली। सराफा बाजार में सुस्ती का दौर है। जिले में कोविड संक्रमण की रफ्तार थमने के बाद बाजार में रौनक लौट आई है।

बीते दो सालों से कोरोना महामारी के चलते हर सेक्टरों व सेवाओं में मंदी आई, लेकिन शारदीय नवरात्र के शुरुआती दिन से ही बाजार के लिए शुभ संकेत दिखने लगे हैं। कार या बाइक की खरीदारी हो या उसकी बुकिग दोनों की स्थितियों में बाजार तेज है। यहां तक कि लोगों ने अभी से ही धनतेरस के लिए वाहनों की बुकिग शुरू कर दी है। इस शुभ दिन के अवसर की प्रतीक्षा में वाहन के शौकीन हैं। नवरात्र के दूसरे दिन से को बाजार में रौनक लौटी तो नवमी के दिन तक देखने को मिली। शो रूम में आने वाले ग्राहकों संख्या दिनों दिन बढ़ रही है। कई शो रूम संचालक बताते हैं कि हर दिन कम से कम 80-100 ग्राहक आ रहे हैं। बड़ी संख्या में लोगों ने धनतेरस के लिए बुकिग कराना शुरू कर दिया है। नवरात्र से पूर्व बाजार की स्थिति अत्यंत चितनीय थी।

ऐश्प्रा के मनीष अग्रवाल ने बताया कि नवरात्र में ही सोने-चांदी के बने सामान की खरीदारी में तेजी आई है। यह तेजी पिछले साल के मुकाबले अधिक है। सर्राफा व्यवसायी संघ के अध्यक्ष कुंदन वर्मा ने कहा कि पितृ पक्ष से पहले तक बाजार बिल्कुल बंद था। नवरात्र में दान आदि करने की परंपरा रही है। ऐसे में सोने व चांदी के बिछिया, नाक का कील, छतरी, पायल, कटोरी, गिलास आदि की मांग काफी है। आकर्षक बर्तनों से बाजार पट गया है। धनतेरस पर इस बार सोने चांदी,वाहन के साथ ही बर्तनों की खरीद बढ़ने की उम्मीद है।

----

सर्राफा कारोबार में बहुत तेजी तो नहीं लेकिन हालात सकारात्मक हैें। यही उत्साह पैदा कर रहा है। आज अगर ऐसा है तो कल या आने वाला दिन निश्चित ही कारोबार के लिए बढि़या होगा।

रितेश गुप्ता, सराफा व्यवसायी,

--

नवरात्र में कपड़े की ब्रिकी थोड़ी बढ़ी है। पहले की अपेक्षा अब व्यवसाय में सुधारा आया है। उम्मीद है कि आने वाले त्योहारों में कपड़ा व्यवसाय और गति पकड़ेगा।

अहमद, कपड़ा व्यवसायी।

Edited By: Jagran