बस्ती : श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से प्रवासी मजदूरों के आने का सिलसिला जारी है। गुरुवार को डेढ़ दर्जन श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से 13 हजार प्रवासी मजदूर बस्ती स्टेशन पर उतरे। सभी का पंजीकरण कराने के साथ ही थर्मल स्क्रीनिग कराई गई। जांच के बाद मजदूरों को रोडवेज बसों के जरिये गंतव्य तक भेजा गया।

गुरुवार को भी अव्यवस्थाओं का यहां बोलबोला रहा। ट्रेनें लगातार आती रहीं लेकिन कोई पूछताछ करने वाला नहीं रहा। कौन सी ट्रेन आ रही है। किस जिले के यात्री कहां खड़े होंगे? कोई बताने को भी तैयार नहीं था। काफी देर बाद पंजीकरण और थर्मल स्क्रीनिग टीम सक्रिय हुई। मुंबई, दिल्ली, झांसी, औरंगाबाद समेत विभिन्न स्टेशनों से ट्रेनें प्रवासी मजदूरों को लेकर बस्ती आईं। ट्रेन के जरिये बस्ती पहुंचे मजदूरों को दवा व्यापारियों और समाजिक कार्यकर्ताओं ने स्टेशन के बाहर लंच पैकेट, पानी-बिस्किट, कोरोना से बचाव के लिए सैनिटाइजर व मास्क का वितरित किया। आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेंद्र यादव,जीआरपी थाना निरीक्षक मार्कंडेय यादव,रेलवे के सीनियर डीसीएम एपी सिंह, डीसीआइ एसपी सिंह की टीम ने प्लेटफार्म पर उतरे यात्रियों को पानी, बिस्किट दिया। इसके अलावा महाराष्ट्र समेत अन्य राज्यों से थानाध्यक्ष पुरानी बस्ती सर्वेश राय, दवा व्यापारी पवन गुप्ता, राकेश गुप्ता, वायु कसौधन, एमके मिश्र, अमन, रमन, राजा, विनय, सूर्य प्रकाश सोनू, राघवेंद्र उपाध्याय, राजेश सिंह, शरद राव, रामचरण गुप्ता, नरायनदीन, राम विलास ने सहयोग किया। लेखपाल अजय श्रीवास्तव, चकबंदी के रियाजत अली आदि मौजूद रहे। एडीएम रमेश चंद्र, एसडीएम सुखवीर सिंह, सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक रोडवेज आरपी सिंह, अभिनव श्रीवास्तव, गौरव पटेल, इंद्रजीत त्रिपाठी बसों में यात्रियों को बैठा कर रवाना करते रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस