मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बस्ती : आत्मा के कारक सूर्य के धनु राशि में प्रवेश करने की वजह से मंगलवार यानी 16 दिसंबर से खरमास शुरू हो जाएगा। इसके चलते 14 जनवरी तक ¨हदू धर्मावलंबी कोई भी शुभ कार्य नहीं करेंगे। कारण यह कि धर्मशास्त्रों में इस अवधि के बीच शुभ कार्य वर्जित हैं। ज्योतिषियों और कर्मकांड के विद्वानों के अनुसार मंगलवार को शाम 05 बजकर 41 मिनट से खरमास का स्पर्श हो जाएगा।

ज्योतिषाचार्य पं. जय प्रकाश द्विवेदी के मुताबिक आने वाले साल में मलमास यानी अधिक मास भी पड़ रहा है, इसलिए कई तिथियों का क्षय होगा। परिणाम स्वरूप इस बार खरमास 30 के बजाए 29 दिन ही रहेगा। द्विवेदी के मुताबिक खरमास के बीच यूं तो शुभ कार्य वर्जित हैं, लेकिन इस दौरान श्रीमद्भागवत के पाठ व तीर्थाटन का विशेष लाभ मिलता है। तिथि नक्षत्रों की गणना करें तो सोमवार को शाम 05 बजकर 41 मिनट से खरमास शु़रू हो जाएगा। जो 14 जनवरी 2015 को रात्रि 10 बजकर 41 मिनट पर सूर्य के मकर राशि में प्रवेश कर जाने के बाद खरमास समाप्त होगा। चूंकि इस बार मलमास भी होगा इसलिए खरमास के दौरान 03 जनवरी शनिवार यानी पौषमास की त्रयोदशी्र चतुर्दशी, 05 जनवरी को अमावस्या सहित कई तिथियों का ह्रास हो रहा है। खरमास के 29 दिन का होने का यही एकमात्र कारण है।

खरमास में वर्जित हैं ये शुभ कार्य

¨हदू धर्मशास्त्रों के अनुसार खरमास के दौरान सिर्फ अंत्येष्टि संस्कार को छोड़ बाकी बाकी 15 संस्कार वर्जित हैं। इस दौरान विवाह, मुंडन संस्कार, गृह प्रवेश या अन्य कोई शुभ कार्य करने से परहेज की सलाह दी गई है। इसके साथ ही यज्ञोपवीत, वधू प्रवेश, कुंआ, तालाब बावड़ी की खुदाई, शिशु संस्कार आदि भी वर्जित है।

इनके लिए फलदायी है सूर्य की पूजा

जिनके गुरु यानी बृहस्पति कमजोर हों, उनके लिए खरमास में सूर्य की पूजा फलदायी है। ऐसा धर्म शास्त्रो में वर्णित है। पंडित दिव्यांश त्रिपाठी बताते हैं कि खरमास में सूर्य कमजोर हो जाते हैं। इन्हें मजबूत करने के लिए पूजा पाठ और ऊषाकाल में पवित्र मदियों में स्नान का विधान बताया गया है।

बाजार पर दिखने लगा असर

भले ही खरमास मंगलवार से लग रहा है, लेकिन बाजार पर अभी से मंदी छाने लगी है। दुकानदारों का कहना है कि शुभ कार्य वर्जित होने की वजह से लोग नई खरीदारी करने से बच रहे हैं। खासकर वैवाहिक आयोजनों से जुडे़ व्यवसाई खासे निराश हैं। शहर के इवेंट मैनेजमेंट से जुडे़ राशिद का कहना है कि एक महीने तक कोई बुकिंग नहीं है। मजदूरों को खाली बैठाकर पैसा देना पड़ेगा। इसी तरह भवन निर्माण से जुडे़ व्यवसाई अजीत सिंह का कहना है कि खरमास में ईट, सीमेंट, सरिया आदि की बिक्री भी बुरी तरह से प्रभावित हो जाती है।

किस राशि पर क्या पड़ेगा असर

राशि फल

मेष सामान्य

वृष रोग भय

मिथुन धन हानि

कर्क शत्रु पर विजय

सिंह शारीरिक हानि

कन्या रोग होना,अपमान

तुला सुख, लाभ

वृश्चिक हानि,भय

धनु अति लाभ

मकर सुख, शांति

कुंभ विपत्ति, दुख:

मीन सुख की प्राप्ति

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप