- मखौड़ा धाम मंदिर में पुलिस बल तैनात, चौराहों पर लगा सीसीटीवी कैमरा

- मखौड़ा मंदिर से जुड़े रास्तों व निकट के गांवों पर भी पुलिस की नजर

जागरण संवाददाता, बस्ती : चौरासी कोसी परिक्रमा को लेकर शुक्रवार को मखौड़ा धाम में विश्व हिन्दू परिषद एवं पुलिस की तैयारियों का इम्तिहान होगा। विहिप ने जहां मखौड़ा के नजदीक के गांवों में साधु-संतों एवं अपने कार्यकर्ताओं की जुटान कराने की रणनीति तय कर रखी है तो पुलिस ने उन सभी रास्तों पर निगरानी बढ़ा दी है जो मखौड़ा धाम से जुडे़ हैं। प्रमुख चौराहों पर खुफिया कैमरे लगाए गए हैं, ताकि किसी भी तरह की गतिविधि पर पैनी निगाह रखी जा सके।

25 अगस्त से शुरू हुई विहिप की चौरासी कोसी परिक्रमा का अभी तक मुख्य केंद्र मखौड़ा ही रहा है। शुरुआती दौर में ही विभिन्न स्थानों से विहिप के प्रमुख नेताओं एवं संतों की गिरफ्तारी हो जाने से परिक्रमा महज औपचारिक बनकर रह गई थी। यही कारण है कि विहिप ने परिक्रमा का ऐसे ढंग से समापन करने की रणनीति तैयार की है ताकि मीडिया एवं जनता में चर्चा हो सके। इसी के तहत मखौड़ा के निकट के गांवों में विहिप कार्यकर्ताओं एवं संतों की जुटान कराने की योजना बनाई गई। जबकि विहिप के कई पदाधिकारी कुछ गावों में पहुंच चुके हैं। जगद्गुरु रामभद्राचार्य सहित कई संतो के आने की पूरी योजना गोपनीय रखी गई है। हालांकि गुरुवार को पूर्व सांसद एवं रामजन्म भूमि न्यास के सदस्य डा. राम विलास वेदांती की हर्रैया के पास करनपुर गांव से हुई गिरफ्तारी के बाद विहिप की इस रणनीति का खुलासा हो गया है। वेदांती की गिरफ्तारी को अपनी कामयाबी मान रहे प्रशासन ने मखौड़ा से जुड़े सभी रास्तों पर निगरानी बढ़ा दी है। बस्ती के जिलाधिकारी एके दमेले एवं पुलिस अधीक्षक वीपी श्रीवास्तव पुलिस बल के साथ मखौड़ा में कैंप कर रहे हैं। सिद्धार्थनगर जिले के भी पुलिस कर्मियों को निगरानी में लगाया गया है। रास्तों में लगे बैरियर पर भारी संख्या में पुलिस व आरएएफ के जवान तैनात किए गए है। मखौड़ा मंदिर एसएसबी जवानों के हवाले किया गया है। बस्ती रेंज के डीआइजी, कमिश्नर व गोरखपुर जोन आइजी को भी क्षेत्र में विशेष रूप से तैनात किया गया है।

सूत्रों के अनुसार विहिप ने भी पुलिस की गतिविधियों को जानने के लिए मखौड़ा के सीमावर्ती गांवों में अपना नेटवर्क फैला रखा है। भाजयुमो के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष हरीश द्विवेदी, विहिप के प्रदेश संगठन मंत्री प्रदीप पांडेय व बजरंग दल के प्रदेश संयोजक बृजेश तिवारी भी मखौड़ा पहुंचने की तैयारियों में जुटे हैं।

कई प्रमुख संतो की स्कैन फोटो जारी

प्रशासन ने मखौड़ा से जुड़े रास्तों पर तैनात पुलिस व एसएसबी के जवानों को विहिप के प्रमुख पदाधिकारियों एवं संतों की स्कैन तस्वीरें उपलब्ध कराई है ताकि उधर से गुजरने पर उन्हें आसानी से पहचाना जा सके। जिन संतों की तस्वीरें दी गई हैं उनमें पूर्व केंद्रीय गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद, रामभद्राचार्य, अशोक सिंहल प्रमुख हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर