बरेली, जेएनएन। Bareilly Crime News : बंदी की मां की सूझबूझ से फर्जी जेल अधीक्षक पुलिस के हत्थे चढ़ गया। फर्जी जेल अधीक्षक बन आरोपित ने मात्र 15 हजार रुपये में महिला को उसके बेटे को जेल से छोड़ने की बात कही। शक होने पर महिला ने पड़ोसी को पूरी बात बताई। इसके बाद तय रणनीति के बारादरी पुलिस को मामले की जानकारी दी गई। बारादरी पुलिस ने इज्जतनगर के पीर बहोड़ा का रहने वाला आरोपित जाहिद को सैटेलाइट से गिरफ्तार कर लिया।

सुभाषनगर के वंशीनगला की रहने वाली महिला ने बताया कि प्रेम-प्रसंग के एक मामले में उसका बेटा बीते एक साल से जेल में है। 13 मई को उसके पास फोन आया। फोन करने वाले ने खुद को जेल चीफ यानी जेल अधीक्षक बताया। उसके बेटे का नाम लेते हुए कहा कि इलाहाबाद से एक टीम आई हुई है। वकील भी साथ में हैं। तुम्हारे बेटे को सीधे यहीं से बाहर करा दूंगा, तुम्हें कोर्ट-कचहरी के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। इसके एवज में तुम्हें 15 हजार रुपये खर्च करने होंगे। रुपयों का इंतजाम कर महिला ने फोन करने की बात आरोपित से कही।

शक के चलते बाद में महिला ने आरोपित को फोन नहीं किया। इस पर आरोपित ने महिला को फोन कर धमकाते हुए कहा कि बार-बार फोन नहीं करूंगा। तुम्हारा बेटा जेल में ही सड़ जाएगा। बाहर निकलवाना चाहती हो तो पैसे का इंतजाम कर सैटेलाइट पहुंचो। महिला ने पड़ोसी को पूरी जानकारी दी। पड़ोसी ने बारादरी पुलिस को पूरा वाकया बताया। इसके बाद तय समय दोपहर साढ़े तीन बजे महिला सैटेलाइट पहुंची। जैसे ही महिला आरोपित के पास पहुंची, आरोपित को बारादरी पुलिस ने धर दबोचा।

ढाई माह पहले ही जेल से छूटकर आया था आरोपित : पीर बहोड़ा का रहने वाला आरोपित जाहिद इज्जतनगर में ही चोरी के एक मामले में जेल जा चुका है। डेढ़ साल तक वह जेल में रहा। जेल में ही उसने युवक की मां का नंबर ले लिया और पूरी जानकारी कर ली। ढाई माह पहले ही वह जेल से छूटा था। इसी के बाद उसने ठगी की कहानी रची और महिला को फोन कर बेटे को सीधे जेल से बाहर करने के नाम पर 15 हजार की मांग की।

Edited By: Samanvay Pandey