जेएनएन, बरेली : विदेश में सैर-सपाटा करने के लिए सरकारी नियम कायदों को ताक पर रखा जा रहा है। निदेशालय से अनुमति मिले बगैर ही सीएमओ कार्यालय में तैनात एक लिपिक बैंकॉक घूमने के लिए चले गए। उन्होंने सोशल मीडिया पर फोटो वायरल किया तो स्टाफ के बीच चर्चा शुरू हो गई। बाद में पता चला कि उन्हें निदेशालय से जाने की अनुमति ही नहीं मिली है। सीएमओ ने लिपिक को जवाब-तलब करने को कहा है।

Fb Account पर Post की अपनी तस्वीरें                                                                              

कर्मचारी आचरण नियमावली के अनुसार विदेश जाने के लिए नियुक्ति प्राधिकारी से अनुमति लेना जरूरी है। स्वास्थ्य विभाग में लिपिक वर्ग के कर्मचारियों को निदेशालय से अनुमति लेनी होती है। मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय (सीएमओ) कार्यालय में तैनात लिपिक सुधाकर शर्मा ने सोमवार को अपने फेसबुक अकाउंट में थाईलैंड की फोटो पोस्ट की तो पता चला कि वह विदेश यात्रा पर हैं। वह हफ्ते के लिए बैंकॉक चले गए हैं।

बिना Permission के ही चले गए Bangkok

लेकिन उन्हें निदेशालय से इसकी अनुमति नहीं मिली है। मामले का पता चलते ही सीएमओ कार्यालय में चर्चा होने लगी। पता चला कि उन्होंने विदेश जाने के लिए सीएमओ के माध्यम से निदेशालय को अनुमति के लिए पत्र भेजा था, लेकिन अनुमति नहीं मिल पाई है।

Contractual Doctor भी गए थे Foreign

स्वास्थ्य विभाग में संविदा पर तैनात दो डॉक्टर भी करीब तीन महीने पहले विदेश यात्रा पर गए थे। विभाग में इन दिनों विदेश घूमने का चलन काफी जोरो पर है। जिसके कारण कर्मचारी सरकारी नियमों का भी पालन नहीं करते नजर आ रहे है।

लिपिक ने हमारे ही माध्यम से निदेशालय को अनुमति के लिए पत्र भेजा था, लेकिन अनुमति नहीं मिली है। बिना अनुमति जाने पर उनसे जवाब तलब किया जाएगा। -डॉ. विनीत शुक्ला, सीएमओ

 

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप