बरेली, जेएनएन। उत्तर प्रदेश के बरेली में गन्ने की फसल के रकबे का सर्वे पूरा हो चुका है। इसके बाद अब किसानों के गन्ना बांड बनेंगे। लेकिन इस बार फर्जी गन्ना बांडों पर रोक लगाने की तैयारी कर ली गई है। इस पर अधिकारियों की पैनी नजर रहेगी। जिला गन्ना अधिकारी की चेतावनी है कि एक भी फर्जी बांड सामने आने पर संबंधित के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई जाएगी।

सर्वे हुआ पूरा, बनाए जाएंगे गन्ना बांड

जनपद में इस बार भी विभाग ने आगामी गन्ना पेराई सत्र के लिए किसानों की गन्ने की फसल के रकबे का सर्वे पूरा कर लिया है। इसका डाटा एकत्र किया जा रहा है। अधिकारियों का कहना है कि इस बार फसल के रकबे का जल्द ही खुलासा कर दिया जाएगा। इसके साथ ही अब किसानों के गन्ना बांड बनाए जाने हैं।

फर्जी बांड पर रखेंगे नजर, खुद करेंगे निगरानी

जनपद में गन्ना उत्पादक किसानों की संख्या एक लाख के आसपास है। पिछले दो वर्षों की बात की जाए तो जनपद में विभागीय अधिकारियों ने गन्ना किसानों के बड़ी संख्या में फर्जी बांड का खुलासा करते हुए उन्हें तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया था। इस बार भी अधिकारियों की फर्जी गन्ना बांड पर पैनी नजर रहेगी। उनकी चेतावनी है कि जनपद में एक भी किसान का फर्जी गन्ना बांड नहीं बनने दिया जाएगा।

गन्ने की फसल ही पैदा करने वाले किसानों के बनेंगे बांड

उन्हीं किसानों के बांड बनेंगे, जिनके पास गन्ने की फसल है और उसके रकबे का सर्वे किया गया है। जिला गन्ना अधिकारी पीएन ङ्क्षसह ने बताया कि पिछले वर्ष से ही फर्जी गन्ना बांड पर पूरी तरह से पाबंदी लगा दी थी। इस बार भी फर्जी गन्ना बांड पर नजर रहेगी। उन्होंने बताया कि किसी भी किसान का यदि फर्जी बांड बनता है तो उसके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई जाएगी। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस