जागरण संवाददाता, बरेली : करीब 40 हजार की आबादी को समेटे 30 वर्ष पुराना हरुनगला वार्ड, वहां अब तक छह पार्षद बदल गए। नगर निगम में कई अधिकारी आए और चले गए। शहर की सरकार के मुखिया भी कई बदले, लेकिन इस वार्ड की समस्याएं नहीं दूर हुईं। सड़क-नाली जैसी मूलभूत सुविधाएं तक लोगों को नहीं मिल पा रहीं। निराश लोगों ने जब वार्ड दिवस लगने के बारे में सुना तो खुद को रोक नहीं पाए। बुधवार सुबह महापौर और नगर निगम के अधिकारियों के सामने अपनी परेशानी बयां करने के लिए भीड़ उमड़ पड़ी। घर के पास आई शहर की सरकार के आगे शिकायतों का अंबार लग गया। हर कोई अपनी समस्या बताने को भीड़ में घुसकर अफसरों तक पहुंचा। अपनी समस्या को प्रमुखता से रखकर निदान की मांग की। समस्या बताने से बढ़कर लोगों के चेहरे पर सुनवाई होने की संतुष्टि दिखाई दी।

सूबे का पहला वार्ड दिवस

निकाय चुनाव के दौरान भाजपा के चुनावी एजेंडे में शामिल वार्ड दिवस लगाने की घोषणा को प्रदेश में सबसे पहले स्थानीय नगर निगम ने धरातल पर उतारा। बुधवार को नगर निगम ने वार्ड 17 हरुनगला में पहला वार्ड दिवस लगाया। वार्ड की दो दर्जन कॉलोनियों से आए लोगों ने महापौर डॉ. उमेश गौतम व नगर आयुक्त आरके श्रीवास्तव को समस्याएं बताई। अपर नगर आयुक्त ईश शक्ति कुमार सिंह, मुख्य अभियंता एसके अंबेडकर, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अशोक कुमार, मुख्य कर निर्धारण अधिकारी आरके सोनकर समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

समय से पहले पहुंच गए थे फरियादी

वार्ड दिवस का समय सुबह 11 बजे का था। इससे पहले ही तमाम फरियादी वहां इकट्ठे हो गए थे। बाद में महापौर ने वार्ड दिवस का उद्घाटन फीते की गांठ खोलकर किया। केसरिया, सफेद व हरे रंग के गुब्बारे हवा में उड़ाए गए। इसके बाद स्थानीय पार्षद नरेश शर्मा बंटी समेत अन्य लोगों ने महापौर को तलवार भेंट की और फिर समस्याएं सुनी का क्रम शुरू हुआ।

सड़क-नाली निर्माण को लेकर सबसे अधिक समस्याएं

दोपहर दो बजे तक चले वार्ड दिवस में 115 शिकायतें दर्ज की गई। इसमें लोगों ने टैक्स, जलकल, निर्माण समेत अन्य समस्याएं बताईं। सबसे अधिक समस्या सड़क व नाली निर्माण को लेकर रही। वार्ड की दो दर्जन कॉलोनियों में कइयों में सड़क-नाली नहीं होने की शिकायत की गई। सभी शिकायतों को दर्ज कर लिया गया।

हफ्ते भर में दूर होंगी शिकायतें

अधिकारियों ने वार्ड दिवस में आई शिकायतों को दर्ज करने के लिए वार्ड रजिस्टर बनवाया। इसमें सभी शिकायतों को दर्ज किया गया। ऐसी शिकायतें जो आसानी से पूरी हो सकती हैं, उन्हें हफ्ते भर में दूर करने का आश्वासन भी लोगों को दिया गया। वही सड़क, नाली समेत अन्य निर्माण संबंधी शिकायतों के लिए नापजोख, एस्टीमेट बनाने के लिए समय लगने की बात कही।

1.55 लाख टैक्स भी जमा

वार्ड दिवस में लोगों की सुविधा के लिए नगर निगम ने जलकल, निर्माण, टैक्स, स्वास्थ्य विभाग के अलग काउंटर लगाए हुए थे। संबंधित विभागों से जुड़े लोगों की शिकायतों को वहां दर्ज किया जा रहा था। इसके साथ ही वार्ड में कई लोगों ने टैक्स की गड़बड़ियों को भी सुधार कराया। कई लोगों ने वार्ड दिवस में ही टैक्स जमा किया। वार्ड दिवस में 1.55 लाख रुपये टैक्स जमा हुआ। टैक्स जमा करने वालों को पार्षद नरेश शर्मा बंटी ने गुलाब का फूल देकर सम्मानित किया।

-------

प्रदेश का पहला वार्ड दिवस लगाया, जिसका काफी अच्छा रेस्पांस रहा है। वार्ड दिवस में लोग अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे हैं। इससे निगम पर लोगों का भरोसा बढ़ेगा।

-डॉ. उमेश गौतम, महापौर

------

वार्ड दिवस में कई शिकायतें आई हैं। सभी दर्ज कर ली गई हैं। कुछ शिकायतें हफ्ते भर में दूर कर दी जाएंगी और सड़क-नाले के एस्टीमेट बनाकर काम होंगे।

-आरके श्रीवास्तव, नगर आयुक्त

Posted By: Jagran