बरेली, जेएनएन। Crime News : पांच दिन पहले हुई बालक की मौत के मामले में मुकदमा दर्ज न होने पर गुरुवार को स्वजन ने ग्रामीणों के साथ थाने में का घेराव किया। पुलिसकर्मियों के पैरों पर सिर रखकर माता-पिता ने गिड़गिड़ाकर न्याय की गुहार लगाई। उच्चाधिकारियों ने जांच कराकर कार्रवाई का आश्वासन देकर लोगों को शांत कराया।

क्षेत्र के ढकिया तिवारी गांव निवासी देवेंद्र पाल सिंह के 13 वर्षीय बेटे करन प्रताप की 17 जुलाई को संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। शव गांव के बाहर यूकेलिप्टस के पेड़ पर रस्सी के फंदे से लटका मिला था। स्वजन ने गांव के ही तीन लोगों पर हत्या कर शव फंदे पर लटकाने का आरोप लगाया था। लेकिन पुलिस इस मामले में कार्रवाई करने के बजाय शांत बैठ गई। ऐसे में बुधवार को भी देवेंद्र पाल सिंह ने पुलिस को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की थी। मुकदमा दर्ज न होने पर थाने के सामने जाम लगाने की चेतावनी भी दी थी।

गुरुवार को जब आरोपितों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई तो करन के परिजन बड़ी संख्या में थाने के सामने पहुंच गई। इसके बाद थाने में हंगामा करना शुरू कर दिया। इसके बाद जब जाम लगाने का प्रयास किया तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें रोक दिया। ऐसे में देवेंद्र, उनकी पत्नी अरुणा देवी व अन्य स्वजन पुलिसकर्मियों से हाथ जोड़कर व पैर छूकर भी न्याय की गुहार लगाने लगे। प्रभारी निरीक्षक प्रमोद कुमार ने हंगामा कर रहे लोगों को कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत कराया।

पोस्टमार्टम में हैंगिंग से मौत होने की पुष्टि हुई है। दोनों पक्षों में पहले से कुछ विवाद होने की बात सामने आ रही है। ऐसे में पूरे प्रकरण की जांच कराई जा रही है। उसी आधार पर मुकदमा दर्ज कराकर आगे की कार्रवाई होगी। अरविंद कुमार, सीओ सदर

 

Edited By: Ravi Mishra