बरेली, जेएनएन। Vijyadashmi 2021 : शहर की सूरत को बदलने और यहां के बाशिंदों में नैतिक मूल्यों का विकास करने का कार्य भी नगर निगम कर रहा है। इस दशहरा पर नगर निगम शहर को दस बुराइयों को खत्म करने का संकल्प दिलाएगा। बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक दशहरा पर नगर निगम शहरवासियों से स्वच्छता बनाए रखने, अतिक्रमण न करने, पालीथिन का इस्तेमाल नहीं करने आदि की अपील करेगा। इसके साथ ही नगर निगम की व्यवस्थाओं में भी सुधार लाने का प्रयास दशहरा से करेगा।

1. सुगम बनाएंगे मार्ग, नहीं करेंगे अतिक्रमण 

शहर में सबसे बड़ी समस्या जाम की है। इस समस्या का प्रमुख कारण यहां सड़कों पर फैला अतिक्रमण है। इसलिए इस बार दशहरे पर नगर निगम लोगों को सड़कों पर अतिक्रमण नहीं करने का संकल्प दिलाएगा। ऐसा कर लोगों का मार्ग सुगम बनाएंगे ताकि लोग सुरक्षित भी रहें।

2. पर्यावरण की दुश्मन पालीथिन को हटाएंगे 

पालीथिन में कोई भी सामान ले जाना आसान तो है, लेकिन यह पर्यावरण को बुरी तरह बिगाड़ रही है। सरकार के प्रतिबंध के बावजूद तेजी से पालीथिन का इस्तेमाल किया जा रहा है। शहर में गंदगी की बड़ी वजह यह है, साथ ही मनुष्य के स्वास्थ्य को भी प्रभावित करने वाली है। अब इसके इस्तेमाल को ना कहा जाएगा।

3. गंदगी का दाग मिटाना है, शहर सुंदर बनाना है 

शहर की सुंदरता पर गंदगी सबसे बड़ा दाग है। खाली प्लाटों और सड़क किनारे फैला कूड़ा यहां आने वालों की मानसिकता को ही बदल देता है। निगम के साथ ही यहां के बाशिंदों को भी गंदगी फैलाने की आदत में सुधार लाना होगा। निगम लोगों को घर, मोहल्ला, शहर साफ और सुंदर बनाने को प्रेरित करेगा।

4. अनमोल है पानी, न करें बर्बाद 

गर्मियां शुरू होते ही पानी का संकट बढ़ने लगता है। धीरे-धीरे पानी मिलना भी मुश्किल हो जाएगा। इसलिए इस अनमोल धरोहर को बचाना जरूरी है। नगर निगम लोगों को पानी का बर्बादी रोकने के बारे में भी बताएगा। नगर निगम प्रशासन भी इसके लिए जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन करा रहा है।

5. खुले में शौच मुक्त बनाना है हर क्षेत्र

स्वच्छ भारत मिशन के तहत सबसे पहले शहरों को खुले में शौच मुक्त (ओडीएफ) बनाना शुरू किया गया। दशहरा पर हम शपथ लें कि न तो खुले में शौच जाएंगे और अन्य लोगों को भी इस संबंध में समझाएंगे। ऐसी नगर निगम की शहरवासियों से अपील है।

6. जीवन बचाना है, नशा भगाना है 

नशा धीरे-धीरे लोगों को विनाश की ओर ले जा रहा है। जीवन को नुकसान पहुंचाने वाले नशे को दूर करना है। शराब, तंबाकू या फिर अन्य मादक पदार्थ की लत को खत्म करना है। इसलिए इस दशहरा पर लोगों को नशे की बुराई को हमेशा के लिए छोड़ने की शपथ दिलाई जाएगी।

7. देश हित में बचाएंगे बिजली 

बिजली का उपयोग लगातार बढ़ता जा रहा है। बाहर से भी बिजली खरीदनी पड़ रही है। ऐसे में लोगों को दशहरे पर बिजली बचाने का संकल्प दिलाया जाएगा। लोग घर में बल्व, टीवी आदि उपकरण जरूरत नहीं होने पर भी चालू रखते हैं। इससे बिजली का दुरुपयोग होता है।

8. सतर्कता से होगी कोरोना की पूरी हार 

कोरोना महामारी का असर कम हुआ है, लेकिन यह बीमारी पूरी तरह खत्म नहीं हुई है। इसलिए लोगों को सतर्कता बरतने का संकल्प दिलाया जाएगा। लोगों को घर से बाहर निकलते वक्त मास्क लगाने और कुछ भी खाने से पहले सेनिटाइजर लगाने या फिर साबुन से हाथ धोने के बारे में बताया जाएगा।

9. भ्रष्टाचार पर लगाम जरूरी 

जिले या शहर के सुधार के लिए कितना भी बड़ा और दूरगामी प्रोजेक्ट हो, भ्रष्टाचार की दीमक लगते ही सब बर्बाद हो जाता है। सालों से अटका बरेली-सीतापुर हाइवे इसका गवाह है। ठेका मिलने के बाद इरा कंपनी ने जमकर गड़बड़ी की। कंपनी को ब्लैकलिस्ट किया गया, लेकिन सालों से अभी तक पुल शुरू नहीं हो सका।

10. नशे व अपराध पर नकेल का इंतजार 

पिछले कुछ सालों में जिले के नशे से जुड़े तार दूसरे जिले ही नहीं प्रदेश में मिले हैं। जिले में नशे का कारोबार बढ़ने के साथ अपराध भी लगातार सामने आ रहे हैं। इन पर नकेल के लिए बीच-बीच में पुलिस और प्रशासन ने कई अभियान भी चलाए। लेकिन अभी तक जिले का माहौल पूरी तरह सुरक्षित नहीं माना जाता है।

महापौर की अपील

दशहरा बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। शहरवासी इसे खुशियों से मनाएं। इसके साथ ही यह भी शपथ लें कि हम अपने अंदर की दस बुराइयों को खत्म कर देंगे। इस दशहरा लोगों को यही अपील है। डा. उमेश गौतम, महापौर

अपराध पर नियंत्रण के लिए जिले में लगातार अलग-अलग योजनाएं बनाकर असामाजिक तत्वों पर कार्रवाई की जा रही है। पिछले एक साल में क्राइम ग्राफ नीचे गिरा भी है। - रोहित सिंह सजवाण, एसएसपी

जिला अपराध, भय व भ्रष्टाचार मुक्त हो, इसके लिए समय-समय पर बैठक की जाती हैं। समस्या समाधान दिवस के दौरान लोगों की परेशानियों को दूर करने के लिए सुनवाई भी होती है। - नितीश कुमार, जिलाधिकारी

Edited By: Ravi Mishra