बरेली, जेएनएन। चंदरपुर बिचपुरी गांव में बनाए गए आवासों को तोड़ने के विरुद्ध गुरुवार को किन्नर बोर्ड की उपाध्यक्ष सोनम चिश्ती डीएम कार्यालय के सामने गद्दे बिछाकर धरने पर बैठ गई। इसके बाद उन्होंने किसी की नहीं मानी, जिस पर अधिकारियों के पसीने छूट गए। गांव के तमाम लोगों के साथ वहां नारेबाजी की। करीब चार घंटे तक धरना-प्रदर्शन करने के बाद सर्किट हाउस पर एक घंटे अधिकारियों के साथ बैठक की। फिर मुख्यमंत्री के सामने पद से इस्तीफा देने की बात कहकर वह लौट गई। इस दौरान खलबली मची रही।

उत्तर प्रदेश किन्नर बोर्ड की उपाध्यक्ष सोनम किन्नर ने बुधवार को अधिकारियों के साथ बैठक की थी। गुरुवार दोपहर करीब एक बजे वह कलक्ट्रेट पहुंच गई। डीएम कार्यालय पर बैठककर अधिकारियों से बातचीत की। इसके बाद करीब ढाई बजे उन्होंने गद्दे, तकिए मंगवाकर डीएम कार्यालय के सामने जमीन पर बिछवा दिए। इसके बाद वह चंदपुर बिचपुरी गांव के लोगों के साथ धरने पर बैठ गई। बीडीए पर चंदपुर बिचपुरी गांव के लोगों को बेघर करने का आरोप लगाया। कहा, कि वहां किन्नरों के दो आवास भी हैं, जिसमें उनके कुल देवता का मंदिर भी है। वहां कई परिवार एक साथ रहते हैं। बताया, गरीबों को बेघर किया जा रहा है। इस पर उन्होंने बीडीए के खिलाफ नारेबाजी भी की।

बीडीए उपाध्यक्ष जोगिंदर सिंह पर जबरन लोगों के घरों पर बुलडोजर चलाने का आरोप लगाया। डीएम शिवाकांत द्विवेदी, एडीएम सिटी डा. राम दुलारे पांडेय, सिटी मजिस्ट्रेट राजीव पांडेय ने उन्हें धरने से उठकर कार्यालय में बात करने को कहा, लेकिन उन्होंने किसी की नहीं मानी। धरना समाप्त कराने में अधिकारियों के पसीने छूट गए। लखनऊ से कई आला अफसरों ने भी फोन किया, लेकिन किन्नर बोर्ड की उपाध्यक्ष नहीं मानी। करीब चार घंटे तक धरना-प्रदर्शन चलता रहा। गांव के यशवीर सक्सेना, इब्राहिम समेत अन्य लोगों ने घर टूटने का दर्द बयां किया।

सर्किट हाउस में बोली, मुख्यमंत्री को दूंगी इस्तीफा: डीएम कार्यालय पर चार घंटा धरना-प्रदर्शन करने के बाद किन्नर बोर्ड की उपाध्यक्ष सर्किट हाउस पहुंची। वहां डीएम शिवाकांत द्विवेदी, एसएसपी रोहित सिंह सजवाण, बीडीए उपाध्यक्ष जोगिंदर सिंह के साथ करीब एक घंटा बैठक की। बैठक के बाद सोनम किन्नर ने पत्रकारों से कहा कि अधिकारियों से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिला है। बोली, यहां से जाकर मुख्यमंत्री से शिकायत करूंगी। इसके बाद भी बात नहीं मानी गई तो किन्नर बोर्ड की उपाध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दूंगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि गरीबों के घर नहीं टूटेंगे, उन्हें बसाया जाएगा। यहां उसका उल्टा हो रहा है। गरीबों के घर तोड़े जा रहे हैं और रईसों को बसाया जा रहा है।

डीएम शिवाकांत द्विवेदी ने कहा कि चंदरपुर बिचपुरी गांव की भूमि बीडीए अधिग्रहीत कर चुका है। इस संबंध में किन्नर बोर्ड की उपाध्यक्ष की मांग गलत थी। इस बारे में उन्हें बताया भी गया।

बीडीए उपाध्‍यक्ष जोगिंदर सिंह ने कहा कि बीडीए की जमीन पर अवैध रूप से निर्माण किये गए हैं। बावजूद इसके वहां के लोगों अवैध रूप से बसे लोगों को सस्ती दरों पर व किश्त में भूखंड दिए जा रहे हैं। 

Edited By: Vivek Bajpai