बरेली, जेएनएन : हैदराबाद और अहमदाबाद से लौटे एजाजनगर गौटिया और सिरौली के मुहल्ला प्यास निवासी युवक कोरोना को हराकर शनिवार को घर लौट गए। 12 दिन तक चली उनकी इस जंग में उनका साथ दिया एल-1 बिथरी चैनपुर अस्पताल के डॉक्टरों और स्टाफ ने। दोनों युवकों ने डॉक्टरों का आभार जताया।

शहर के एजाज नगर गौटिया निवासी परवेज और सिरौली के प्यास निवासी फुरकान 18 मई को हैदराबाद और अहमदाबाद से लौटे थे। 22 मई को लिए गए सैंपल की रिपोर्ट 24 को आई थी। इसके बाद दोनों को कोविड-19 एल-1 बिथरी चैनपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। चार दिन बाद लिए गए सैंपल में उनकी दूसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आई थी। क्वारंटाइन की 12 दिन की अवधि पूरी होने पर शनिवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। चिकित्सकों ने तालियां बजाकर उनका मनोबल बढ़ाते हुए होम क्वारंटाइन रहने की हिदायत देकर विदा किया।

दैनिक जागरण से फोन पर हुई बातचीत में फुरकान और परवेज ने बताया कि चिकित्सक दिन में चार बार तो आते ही थे। चेकअप करते थे, हालचाल लेने के साथ ही मनोबल बढ़ाते थे। यही कारण है कि हम जल्द स्वस्थ होकर घर लौट आए। बदायूं के दो संक्रमित भी गए घर

बदायूं के संक्रमित रुकसार और नाजिम भी शनिवार को स्वस्थ होकर घर लौट गए हैं। वे एल-1 बिथरी अस्पताल में 24 मई को भेजे गए थे।

यह बोले एसीएमओ

जिले के दो और संक्रमित स्वस्थ हो गए हैं। संक्रमितों की संख्या बढ़ने के साथ ही मरीज स्वस्थ भी हो रहे हैं। जिले में अब तक 34 मरीज कोरोना से जंग जीतकर घर लौट चुके हैं।

- डॉ. रंजन गौतम, जिला सर्विलांस अधिकारी कोविड-19

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस