बरेली, जेएनएन। Traffic Police News : ध्वनि प्रदूषण पर शासन सख्त हुआ। सामने आया कि बढ़ते ध्वनि प्रदूषण का कारण माडीफाइड साइलेंसर, प्रेशर हार्न व हूटर हैं। इसके बाद चेकिंग चलाकर विशेष रूप से ऐसे वाहनों के खिलाफ निर्देश जारी हुए। एडीजी ट्रैफिक के निर्देश के बाद शनिवार को शहर में ट्रैफिक विभाग की ओर से चेकिंग अभियान चलाया गया। माडीफाइल साइलेंसर, हूटर व प्रेशर हार्न लगाकर भर्राटा भरने वाले चालान कराकर घर लौटे।

एक अध्ययन रिपोर्ट में सामने आया है कि प्रेशर हार्न, माडीफाइड साइलेंसर व प्रेशर हार्न से ध्वनि प्रदूषण का स्तर बढ़ता जा रहा है। स्थिति नियंत्रण के लिए यातायात पुलिस निदेशालय की ओर से जिले स्तर पर सघन चेकिंग चलाकर ऐसे वाहनों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश जारी किये गए। एडीजी ट्रैफिक ने एसपी ट्रैफिक राम मोहन सिंह से चार दिन विशेष रूप से अभियान चलाकर कार्रवाई के निर्देश जारी किये। एडीजी के निर्देश पर चार दिवसीय सघन चेकिंग अभियान शनिवार से ही शुरू हो गया।

चौकी चोराहे, पटेल चौक, चौपुला, सैटेलाइट समेत कई शहर के सभी प्रमुख प्वाइंटों पर चेकिंग अभियान चला। चेकिंग के दौरान रोके जाने पर कई ट्रैफिक पुलिस से उलझते भी नजर आए लेकिन, किसी की एक न सुनी गई। 447 वाहनों के चालान किये गए। माडीफाइड साइलेंसर में 28, ध्वनि प्रदूषण में नौ व हूटर व प्रेशन हार्न में आठ चालान किये गए। ध्वनि प्रदूषण पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया।

थानास्तर से भी होगी कार्रवाई

नियमों को ताक पर रखकर गाड़ी चलाने वालों की मुश्किलें और बढ़ने वाली हैं। रविवार से थाना स्तर पर ऐसे वाहनों के चेकिंग की कार्रवाई शुरू होगी। इस संबंध में सभी थाना प्रभारियों को निर्देश जारी किये गए हैं।

चार दिन तक अभियान के तहत कार्रवाई के साथ नियमों को ताक पर रख वाहन चलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई जारी रहेगी। - राम मोहन सिंह, एसपी ट्रैफिक

 

Edited By: Ravi Mishra