जेएनएन, पीलीभीत : पीलीभीत-माधोटांडा मार्ग पर आम दिनों की तरह यातायात चल रहा था। तभी मथना नहर पुल के पास एक बाघ जंगल से निकलकर रोड पर आ गया। बाघ को रोड पर खड़ा देखकर पीलीभीत से माधोटांडा आ रहे कई बाइक सवार भयभीत हो गए। रोड पर वाहनों के पहिये एकाएक थम गए। एकत्रित होकर राहगीरों ने शोर मचाया तो बाघ जंगल में वापस चला गया। तब जाकर राहगीरों की सांस में सांस आई। इसके बाद दोबारा यातायात शुरू हो सका।

सर्दियां शुरू होते ही बाघ पीलीभीत टाइगर रिजर्व के जंगल से बाहर दिखने लगे हैं। गुरुवार सुबह पीलीभीत माधोटांडा मार्ग में मथना क्षेत्र में नहर के पुल से पहले जंगल के अंदर बाघ मार्ग में आकर खड़ा हो गया। बीच मार्ग में खड़े बाघ को देखकर पीलीभीत को आने और जाने वाले लोग बाइक रोक कर खड़े हो गए और शोर मचाना शुरू कर दिया जिस पर बाघ आराम से टहलता हुआ जंगल में चला गया। बाघ जाने के बाद आवागमन शुरू हो सका। मथना निवासी बलजिंदर सिंह व आरडी तिवारी ने बताया कि सुबह करीब 9:00 बजे बाघ को बीच मार्ग में खड़ा देख कर भयभीत हो गए और अपनी बाइक रोक ली इसी बीच कुछ अन्य बाइक चालक आ गए उन्होंने भी बाघ को देखा। शोर मचाने पर बाघ जंगल में चला गया।

बता दें इसी माह के पहले हफ्ते में जिला सहकारी बैंक माधोटांडा के शाखा प्रबंधक विशाल त्रिवेदी बाघ हमले में बाल बाल बच गए थे वही कुछ दिन पहले कुंवरपुर गांव के दो युवक भी बाघ के हमले से बचे थे। पिछले वर्ष जमुनिया गांव के एक व्यक्ति को नरकुल काटते समय मथना नहर पुल के निकट बाघ ने शिकार बना लिया था।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस