जेएनएन, बरेली : एमजेपी रुहेलखंड विश्वविद्यालय में पिछले डेढ़ महीने से रैगिंग की घटनाएं सुलग रही थीं। प्रशासन की चेतावनी के बावजूद छात्रों की हरकतें नहीं सुधरी। सोमवार को एमबीए प्रथम वर्ष के छात्रों की लिखित शिकायत पर चीफ वार्डन प्रो. एके जेटली ने बीटेक के दो और फार्मेसी के एक छात्र को हॉस्टल से निष्कासित कर दिया है। वहीं, तीनों को चार दिन के लिए कक्षा से निलंबित करने और जांच कराने के लिए डीन को पत्र लिखा है।

पहले नाम पता पूछा फिर की गाली गलौच 

सोमवार को एमबीए प्रथम वर्ष के छात्र कैंपस से हॉस्टल जा रहे थे। आरोप है कि बीफार्मा फोर्थ ईयर, बीटेक इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन और इलेक्ट्रॉनिक्स इंस्ट्रूमेंटेशन थर्ड ईयर के दो छात्र कुछ बाहरी लड़कों के साथ मुख्य छात्रवास के बाहर बैठे थे। बीटेक-फार्मेसी के तीनों छात्रों ने बाहरी लड़कों के साथ मिलकर एमबीए के सीनियर छात्रों को रोका। उनसे नाम-पता पूछने लगे। सीनियरों ने रैगिंग का विरोध किया तो आरोपितों ने गाली-गलौज की।

बाहरी साथी भागे पकड़ा गया फार्मेसी का छात्र 

सूचना पर सुरक्षा प्रभारी सुधांशु पहुंचे। उन्होंने डंडा फटकारा तो छात्रों के साथ बाहरी लड़के भाग गए। मगर फार्मेसी का छात्र पकड़ा गया। उसने दो साथियों के नाम बताए तो सुरक्षा प्रभारी उन्हें लेकर चीफ वार्डन के पास पहुंचे। यहां एमबीए के छात्रों को बुलाकर उनकी शिनाख्त कराई गई। विरोध में एमबीए के करीब 15-20 छात्र पहुंचे। लिखित शिकायत पर चीफ वार्डन तीनों छात्रों को मुख्य छात्रवास से निष्कासित कर दिया। इंजीनियरिंग डीन को पत्र लिखकर विभागीय जांच बिठाने को कहा है। वहीं, छात्रों को मंगलवार तक हॉस्टल छोड़ने का समय दिया गया है। 

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप