जेएनएन, बरेली : थाना प्रेमनगर के कोहाड़ापीर क्षेत्र में लोहा व सीमेंट कारोबारी सिद्धार्थ की हत्या की साजिश पड़ोस की दुकान में काम करने वाले मिस्त्री ने अपने साथी के साथ मिलकर रची थी। मंगलवार की रात को मुठभेड़ के बाद दोनों को गिरफ्तार करने का दावा करने वाली पुलिस ने पूछताछ के बाद पूरी वारदात बयां की।

रची थी गोदाम में चोरी करने की साजिश 

सिद्धार्थ की दुकान के पड़ोस में सुमित की ऑटो मोबाइल मरम्मत की दुकान है, इसलिए वह सिद्धार्थ को जानता था। उसका दुकान व गोदाम में भी आना जाना था। वह गोदाम की भौगोलिक स्थिति से पूरी तरह वाकिफ था। उसने अपने साथी राहुल के साथ मिलकर गोदाम में चोरी करने की साजिश रची।

पहले ही तय कर लिया था हत्या का इरादा 

दोनों ने पहले ही तय कर लिया था कि अगर सिद्धार्थ वहां मिले तो उनकी हत्या कर देंगे। इसके चलते ही वह लोहे की रॉड साथ ले गए थे। दोनों पीछे के रास्ते गोदाम में घुसे तो केबिन में सिद्धार्थ दिख गए। दोनों ने उन्हें बाहर निकाला और रॉड से प्रहार कर दिया। वह लहूलुहान होकर गिरे तो घसीटकर किनारे ले गए और फिर सिर पर कई प्रहार कर हत्या कर दी। इसके बाद वहां से 28 हजार रुपये, बैग व अन्य सामान लेकर फरार हो गए।

पुलिस की कहानी में ऐसे हुई गिरफ्तारी 

घटनास्थल की जांच के दौरान पुलिस को सीसीटीवी कैमरे दिखे। उनकी फुटेज निकलवाई तो दोनों हत्यारोपित दिखे। जिसके बाद पीछा किया और रात को मुठभेड़ में दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया।

 

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप