बरेली, जेएनएन। बदायूं  जिले में आक्सीजन की कमी को लेकर मचे हाहाकार के बीच राहत देने वाली खबर यह है की शनिवार रात टर्की से आक्सीजन प्लांट मेडिकल कालेज में पहुंच गया है। यह प्लांट उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा स्वीकृत बजट से मेडिकल कालेज को दिया गया है। इसका कंप्रेसर दो से चार जून तक मेडिकल कालेज को उपलब्ध हो जाएगा। इसके बाद 10 से 12 जून तक यह आक्सीजन प्लांट चालू हो जाएगा।

राजकीय मेडिकल कालेज में संक्रमित मरीजों के लिए कोविड अस्पताल एल-टू स्थापित किया गया है। इसमें मरीजों के लिए 250 बेेड की व्यवस्था की गई है। जबकि मेडिकल कालेज में 300 बेेड की क्षमता है। कोरोना काल में जिलेे में आक्सीजन का संकट गहरा गया था। इस बीच मेडिकल कालेज को भी आक्सीजन की किल्लत से जूझना पड़ा था। मेडिकल कालेज प्रशासन और जिला प्रशासन ने गैर राज्य व गैर जिलों की मदद से आक्सीजन की आपूर्ति को पूरा किया। बावजूद कभी कभार मरीजों की उखड़ती सांसों को मेडिकल कालेज में आक्सीजन की कमी हो जाती है। इसे देखते हुए मेडिकल प्रशासन की मांग पर शासन स्तर से मेडिकल कालेज में आक्सीजन प्लांट लगाने की अनुमति मिली। शासन स्तर से आक्सीजन प्लांट लगाने के लिए 93, 10, 200 रुपये स्वीकृत हुए। प्लांट टर्की से निर्यात किया गया। जोकि शनिवार रात मेडिकल कालेज पहुंच गया। इस संबंध में मेडिकल कालेज के प्राचार्य डा. धर्मेंद्र गुप्ता ने बताया, टर्की से आक्सीजन प्लांट आ गया है। इसका कंप्रेसर दो से चार जून तक उन्हें उपलब्ध करा दिया जाएगा। 10 से 12 जून तक आक्सीजन प्लांट चालू हो जाएगा। 

Edited By: Samanvay Pandey