बरेली, जेएनएन। सूदखोरों के खिलाफ ऑपरेशन मुक्ति चलाया जा रहा है। सूदखोरों पर शिकंजा कस रहा है। बावजूद सूदखोरों द्वारा उत्पीड़न जारी है। बारादरी क्षेत्र के रहने वाले एक सूदखोर ने पीड़िता के एक बेटे का मकान कब्जा कर लिया। दूसरे बेटे काे पीएम आवास के तहत जो मकान मिला है अब उसे भी कब्जा करने की कोशिश कर रहा है। यह तब है जब सूदखोर को पीड़िता द्वारा ली गई रकम भी अदा कर दी गई है।

बारादरी की रहने वाली पीड़िता बिट्टो देवी ने बताया कि पड़ाेस का रहने वाले कुछ दबंग लोग सूदखोरी का काम करते हैं। मकान बनवाने के लिए उनसे बेटे ने पैसा लिया था, सारी रकम वापस भी कर दी गई। बावजूद सूदखोर 15 लाख रुपये बकाया होने की बात कह रहा है। आरोप है कि 17 दिसंबर 2020 को इसी के चलते उसने एक बेटे को कचहरी ले जाकर धोखे से मकान लिखा लिया।

इससे भी मन नहीं भरा तो अब पीएम आवास के तहत दूसरे बेटे को मिले मकान पर कब्जे की कोशिश की जा रही है। इसका विरोध किया, पुलिस से शिकायत की बात कही तो 22 फरवरी को आरोपित सूदखोर घर में घुस आया और घर खाली करने की बात कहने लगा। जान से मारने की धमकी दी। आरोप है कि मामले की शिकायत बारादरी पुलिस से की गई तो पीड़िता को लौटा दिया गया। इसके बाद पीड़िता सोमवार को एसएसपी कार्यालय पहुंची, जहां उसे कार्रवाई का आश्वासन मिला है।