जेएनएन, बरेली : वो आठवीं कक्षा की छात्र है, उम्र 14 साल। पढ़ाई के दिन हैं, भविष्य के सपने बुनने के दिन हैं। मगर, उसकी शादी किए जाने की तैयारी होने लगी। उसे पता चला तो परिवार वालों से एतराज जताया मगर सबने अनसुना कर दिया। उसने हिम्मत की, सीधे थाने पहुंच गई। रोती हुए बोली, मुङो पढ़ना है लेकिन मां शादी कराने पर अड़ी है। पुलिसकर्मियों ने उसका साथ दिया। उसकी मां को बुलाया। थोड़ा डांटा, ज्यादा समझाया।

बताया कि बेटी को पढ़ाओ, आगे बढ़ाओ। नाबालिग की शादी करोगी तो जेल भेज दी जाओगी। मां ने शादी न कराने की बात तो मान ली मगर कहने लगी कि उससे वास्ता नहीं रखेगी। हालांकि बाद में मामला सुलझ गया।

फतेहगंज पूर्वी की शब्बीर कॉलोनी निवासी छात्र शुक्रवार देर शाम रोते हुए थाने पहुंची।

उसने पुलिसकर्मियों को बताया कि मां जबरन शादी कराना चाहती है। तिलहर निवासी लड़के से रिश्ता तय कर दिया, जो मजदूरी करता है। इसका विरोध करती हूं तो घर से निकल जाने की बात कहती है। रोती किशोरी को देख पुलिस वालों ने उसकी मां को बुला लिया।

हिदायत दी कि नाबालिग की शादी करना अपराध है। इस पर मां बोली कि ठीक है। शादी नहीं करुंगी मगर इससे वास्ता भी नहीं रहेगा। बेटी भी कहने लगी, ऐसे हालात में घर जाऊंगी तो मुङो खतरा है। इस पर पुलिस सख्त हुई।

लड़की के परिवार के सभी लोगों को बुलाया। हड़काते हुए कहा कि यदि शादी की या परेशान किया तो सबको जेल भेज देंगे। सभी को मुचलका पाबंद भी कर दिया। लड़की घर नहीं जाना चाहती थी फिर भी पुलिस उसे मां के साथ भेज दिया। दादा को निगरानी का जिम्मा दिया है।

मां से साफ कह दिया है कि अगर बालिग होने से पहले लड़की की शादी की तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे। - अश्विनी कुमार, प्रभारी निरीक्षक थाना फतेहगंज पूर्वी

लड़की के घर पहुंचकर मां की काउंसिलिंग कराएंगे। उसके लिए चाइल्ड लाइन की टीम को भेजा जाएगा। लड़की को पढ़ने में पूरी मदद उपलब्ध कराई जाएगी। - नीता अहिरवार, जिला प्रोबेशन अधिकारी

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस