बरेली, जेएनएन। शाहजहांपुर के बंडा के गहलुइया गांव के रहने वाले  करनैल सिंह का घर खन्नौत नदी से करीब पांच सौ मीटर दूर स्थित है। रात को उनका परिवार घर का दरवाजा बंद करके सो गए लेकिन जब सुबह उठे तो देखा कि कमरे में मगरमच्छ एक कोने में हैै। यह देखकर उनके होश उड़ गए। उन्होंंने तुरंत ही वन विभाग के अधिकारियों को इसकी सूचना दी। 

उन्होंने बताया कि रात में जब वह और उनके परिवार के लोग भोजन करने के बाद सोने गए तो कमरे में कहीं पर मगरमच्छ दिखाई नहीं दिया। सुबह पांच बजे के करीब कमरे में कुछ आहट महसूस हुई तो करनैल सिंह ने दरवाजा खोला। कमरे की लाइट बंद थी। उन्होंने लाइट जलाई तो देखा कि इनवर्टर के पास मगरमच्छ पड़ा हुआ है। उन्होंने गांव में रहने वाले वन विभाग के वॉचर सोढ़ी सिंह व प्रेमचंद्र को इसकी सूचना दी। तब तक गांव के लोगों की भीड़ लग गई। वन विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचकर  मगरमच्छ को पकड़कर वापस नदी में ले जाकर छोड़ दिया। गांव के किनारे नदी है। ऐसे में अक्सर मगरमच्छ घरों तक पहुंच जाते हैैं। इससे पहले निगोही, खुदागंज में भी मगरमच्छ घरों के अंदर पाए गए थे ।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस