शाहजहांपुर, जेएनएन। टूरिस्ट वीजा के उल्लंघन समेत अन्य आरोपों में अस्थायी जेल में बंद थाईलैंड व तमिलनाडु के तब्लीगी जमातियों की मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सीजेएम ओमवीर सिंह की कोर्ट में पेशी हुई। सभी 11 लोगों को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया। अब इन्हें आठ जून को अगली तारीख पर पेश किया जाएगा।

शहर के मुहल्ला खलील शर्की स्थित मरकज में रुके थाईलैंड के नौ, तमिलनाडु के दो जमातियों को मरकज के केयरटेकर के साथ दो अप्रैल को मेडिकल कालेज में क्वारंटाइन कराया गया था। सैंपल की जांच में थाईलैंड के एक जमाती की रिपोर्ट पॉजीटिव आई थी। उपचार के बाद वह बरेली से सही होकर वापस आ गया था। पुलिस ने तब्लीगियों पर लॉकडाउन के उल्लंघन, कोविड-19 महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

थाईलैंड के जमातियों पर टूरिस्ट वीजा पर धार्मिक प्रचार व तमिलनाडु के जमातियों पर जानकारी छिपाने की भी धारा लगाई। 30 अप्रैल को सभी को अजीजगंज स्थित नगर निगम के रैन बसेरे में बनी अस्थायी जेल में न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। बुधवार दोपहर सीजेएम कोर्ट में थाईलैंड के नौ व तमिलनाडु के दो जमातियों को अजीजगंज स्थित अस्थायी जेल से पेश किया गया।।

जमानत हो चुकी है खारिज

थाईलैंड के तब्लीगी जमातियों की ओर से सीजऐम कोर्ट में जमानत के लिए भी अर्जी दाखिल की गई थी, जिसे वह पूर्व में खारिज कर चुके हैं। तमिलनाडु के दो जमातियों व मरकज के केयरटेकर मसीउल्ला की जमानत मंजूर हो चुकी है, लेकिन मसीउल्ला का ही बेल बांड दाखिल होने के कारण वह रिहा हुआ है। तमिलनाडु के जमाती थाईलैंड के जमातियों के द्विभाषिये हैं, इसलिए उनकी ओर से बेल बांड अभी दाखिल नहीं हुआ है। वे दोनों भी रिहा न होने तक न्यायिक हिरासत में ही माने जाएंगे। इसलिए उनकी भी पेशी हुई।

अस्थायी जेल में बंद तब्लीगी जमातियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी कराई गई है। सीजेएम ने आठ जून को दोबारा पेश करने के आदेश दिए हैं।- राकेश कुमार, जेल अधीक्षक 

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस