बरेली, जेएनएन। केबीसी से तेज बहादुर की जिंदगी में खुशियों का उजाला हो गया है। इसी उजाले से अब घर में भी उजाला होगा। जीते 50 लाख रुपये में तेज बहादुर काे करीब 35 लाख रुपये मिलेंगे। पैसाें के इस्तेमाल पर तेज बहादुर ने सबसे पहले कहा था कि घर में बिजली नहीं है। अब घर में बिजली का कनेक्शन करवाएंगे। दोनों भाई और मेहनत से पढ़ाई करेंगे। साथ ही कच्चे घर को भी दुरुस्त कराएंगे।

पिता चरन सिंह की लॉकडाउन में नौकरी चली जाने के बाद से वह खेती कर रहे हैं। घर में आय का जरिया सिर्फ खेती है। कहते हैं कि पैसा पापा-मम्मी को देंगे। इससे पापा कुछ काम भी कर सकेंगे और हम लोगों की पढ़ाई भी चलती रहेगी। अब पापा-मम्मी को कभी आर्थिक दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा। मम्मी को चार पैसे अर्जित करने के लिए कढ़ाई करने की मजबूरी भी नहीं रहेगी।

 

बेटे पर है नाज

तेज बहादुर की इस उपलब्धि से पूरा गांव गौरान्वित हैं। गांव में घर पर बधाई देने वालों का तांता लग रहा है। मां राजकुमारी और पिता चरन सिंह का सीना गर्व से चौड़ा है। खुशी के इस मौके पर माता-पिता भावुक हो जाते हैं। कहते हैं कि एक मां-बाप के लिए इससे बड़ी उपलब्धि क्या हो सकती है कि 20 साल की उम्र में ही बेटा देशभर में नाम रोशन कर दे। तेज बहादुर हीं नहीं हमें अपने दोनों बेटों पर नाज है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021