जागरण संवाददाता, बरेली : यूपी बोर्ड के परीक्षार्थियों को मूल्यांकन से ज्यादा नंबर देने की जो ओएमआर शीट सोशल साइट्स पर वायरल हुई थी। उसका आरोप धौरा के पटेल इंटर कॉलेज के शिक्षक अनिल पर लगा है। सोमवार को बोर्ड के सचिव ने अनिल को तलब किया था।

वायरल ओएमआर शीट इस बात की तस्दीक कर रही थी कि कॉपी चेकिंग में परीक्षार्थियों को जो नंबर दिए गए हैं, वो रिजल्ट से जुदा हैं। इसका यह निष्कर्ष निकाला गया कि बोर्ड परीक्षा में सख्ती महज दिखा भर थी। बोर्ड ने कम अंक पाने वाले अभ्यर्थियों को भी ज्यादा अंक देकर पास किया है। इस वायरल शीट ने बोर्ड परीक्षा को कठघरे में खड़ा कर दिया था। बोर्ड ने इसकी जांच कराई। माध्यमिक शिक्षा विभाग के नुमाइंदों के मुताबिक जांच में पटेल इंटर कॉलेज के शिक्षक का नाम आया है। बोर्ड सचिव ने उन्हें तलब किया था। वो सोमवार को इलाहाबाद गए थे। शिक्षक पर कार्रवाई तय

माध्यमिक शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ओएमआर शीट गोपनीय सामग्री थी। इसे वायरल करना परीक्षा के नियमों का उल्लंघन है। किसी परीक्षार्थी की कॉपी ऐसे सार्वजनिक नहीं की जा सकती है। इस मामले में शिक्षक के विरुद्ध कार्रवाई होना तय है। बोर्ड तक मची थी खलबली

सूत्रों के मुताबिक केवल एक ओएमआर शीट ही वायरल नहीं हुई थी। इसके अलावा भी कई कॉपी के फोटो वायरल किए गए हैं। इन कापियों से यह संदेश जाता है कि कमजोर विद्यार्थियों को बोर्ड से अंक दिए गए हैं। हालांकि यह जांच का विषय है कि क्या हुआ। अब जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ठ हो सकेगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप