जागरण संवाददाता, बरेली : केद्र सरकार ने लोगो के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए बजट मे 12 हजार करोड़ का प्रावधान किया है। इसमे छह सौ करोड़ रुपये तपेदिक (टीबी) के मरीजो के पोषण के लिए रखे है। अब टीबी मरीजो को मुफ्त इलाज के साथ पोषण के लिए रुपये भी मिलेगे। केद्र सरकार वर्ष 2020 तक टीबी की बीमारी को पूरी तरह खत्म करने का लक्ष्य रखा है। यही वजह है कि प्राइवेट प्रैक्टिस कर रहे डॉक्टरो व मेडिकल स्टोर संचालको से स्वास्थ्य विभाग को मरीजो का डाटा देने को कहा गया है। छिपे हुए रोगी तलाशने को घर-घर उनकी तलाश की जा रही है। इधर, केद्रीय बजट मे रखे 12 हजार करोड़ रुपये मे से 600 करोड़ टीबी के मरीजो पर खर्च होने है। हर माह मिलेगे पांच सौ रुपये जिले मे टीबी के करीब साढ़े ग्यारह हजार मरीज पुराने है। बजट के अनुसार नए मरीजो को एक अप्रैल से योजना का लाभ मिलने की उम्मीद है। नए पंजीकृत मरीजो को हर महीने पांच सौ रुपये पोषक वस्तुएं खाने को दिए जाएंगे। साथ ही टीबी मरीजो को चिह्नित करने वाले डॉक्टर को सौ रुपये और पूरा इलाज करने पर डॉक्टर को पांच सौ रुपये दिए जाएंगे। वर्जन स्वास्थ्य विभाग मे बीते दिनो चलाए गए अभियान मे 85 नए मरीज मिले। उन्हे केद्र सरकार के निक्षय पोर्टल पर अपलोड करा दिया है। बजट मे पोषण के लिए आर्थिक मदद की घोषणा के बाद नए मरीजो के आधार कार्ड नंबर और बैक खाते भी पोर्टल पर अपलोड कराए जा रहे है। डॉ. एसके गर्ग, जिला क्षय रोग अधिकारी