बरेली, जागरण संवाददाता। Educated Chaiwali in Bareilly: कोई काम छोटा नहीं होता... इस कहावत को चरितार्थ करते हुए मुस्लिम समाज की एक पढ़ी-लिखी महिला ने एक छोटी सी दुकान खोलकर मिसाल कायम की। समाज के तानों को दरकिनार करते हुए महबिश ने अपनी लगन से छोटी सी दुकान को बेहद कम समय में एक पहचान दिला दी है। एसएसपी आफिस के पास स्थित इस दुकान पर लोग दूर-दूर से चाय पीने आते हैं। इसकी वजह है महबिश की अलग-अलग वैरायटी वाली स्‍वादिष्‍ट चाय। महबिश की चाय की दुकान खोलने की इच्‍छा तो ग्रेजुएट चाय वाली का वीडियो देखकर हुई लेकिन, जब उनके मन में अपने काम को लेकर हिचकिचाहट हुई तो उनकी प्रेरणा बने प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी। इसके बाद पीएम को आदर्श मानने वाली महबिश ने जो सफर शुरू किया अब वह उन्‍हें एक नई पहचान दे रहा है।

यह भी पढ़ें:- Bareilly News: IAS संयुक्‍ता समद्दर बनीं बरेली की नई मंडलायुक्‍त, डा. सारिका मोहन ने नहीं संभाला था चार्ज

शुरुआत में स्‍वजन ने किया विरोध, अब सभी दे रहे साथ 

महबिश ने जब चाय की दुकान खोलने की बात स्‍वजन को बताई तो शुरुआत में माता-पिता और सास-ससुर सभी ने इसका विरोध किया। हालांकि, महबिश के पति वासिद खान ने उनका साथ दिया और इंटर पास महबिश ने एसएसपी आफिस के पास अपनी दुकान शुरू की। बाद में बेटे और बहू की लगन देखते हुए अन्‍य स्‍वजन भी उनके मददगार बन गए। 

यह भी पढ़ें:- Bareilly News: खाटू श्याम के दर्शन को जा रहे श्रद्धालुओं से अभद्रता, दारोगा समेत पांच पुलिसकर्मी निलंबित

'चाय चस्का विद बन मस्का' रखा दुकान का नाम

महबिस ने अपनी दुकान का नाम 'चाय चस्का विद बन मस्का' रखा है। दो माह पहले शुरू हुई दुकान के अब तमाम रेगुलर ग्राहक बन गए हैं। महबिश की दुकान पर आधा दर्जन से अधिक चाय के फ्लेवर हैं। इसके चलते दूर-दूर से लोग यहां चाय की चुस्कियां लेने आते हैं। महबिश की चाय का रेट 10 रुपये प्रति कप है। महबिश बताती हैं कि पति वासिद खान उनके काम में पूरी मदद करते हैं। उन्‍होंने बिजनेस का आइडिया आने पर सबसे पहले अपने पति को ही बताया था। वह तब से पूरा साथ दे रहे हैं। 

यह भी पढ़ें:- Gandhi Jayanti 2022: शाहजहांपुर में राज्यपाल बोलीं- गांधी-शास्‍त्री के विचारों को आगे बढ़ा रहे पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को मानती हैं आदर्श

महबिश बताती हैं कि इंटरनेट पर एक ग्रेजुएट पास युवती को देखकर चाय की दुकान खोलने का आ‍इडिया आया था लेकिन, शुरुआत में झिझक हुई। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के शुरुआती जीवन को याद किया। तब इच्‍छा मजबूत हुई और काम शुरू कर दिया। वह पीएम नरेन्‍द्र मोदी को अपना आदर्श मानती हैं और उनकी तरह ही सैद्धांतिक जीवन शैली अपना रही हैं। 

यह भी पढ़ें:- Badaun News: बदायूं में डिप्‍टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बोले, कल्याण सिंह के नाम पर पूरे प्रदेश में होंगे खेल

रिश्तेदार अभी भी करते हैं परेशान

महबिश के पति वासिद खान ने बताते हैं कि पत्‍नी के चाय की दुकान खोलने की बात पता चलने पर रिश्‍तेदार इसके खिलाफ हो गए। उनके माता-पिता को भी ताने मारे गए और जल्द से जल्द दुकान बंद करने की बात धमकी दी। रिश्तेदार जात बिरादरी में इज्जत उछलने की बात कहते हुए लगातार दुकान बंद करने का दबाव बना रहे हैं लेकिन, स्‍वजन के सहयोग की बदौलत काम आसानी से चल रहा है। अब इस काम को और आगे बढ़ाने की योजना है।

अधिकारी भी कर रहे काम की सराहना

महबिश बताती हैं कि दुकान खोलने के बाद से ही लोगों ने जब हमारी चाय पसंद आई तो काफी अच्‍छा रिस्‍पांस मिलने लगा। एसएसपी, जिलाधिकारी समेत कई सरकारी कार्यालयों और बैंकों से चाय के आर्डर आने लगे हैं। इस काम को अब आनलाइन प्लेटफार्म पर आगे बढ़ाने की तैयारी है। महबिश ने बताया कि कई अधिकारी उनके काम की सराहना करते हैं। साथ ही और तरक्‍की के लिए दुआएं भी देते हैं। 

Edited By: Vivek Bajpai

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट