बरेली, जेएनएन।  पशुओं को लगाए जाने वाले  नकली इंजेक्शन बनाकर सप्लाई करने के आरोप में अपर सेशन कोर्ट ने आरोपितों की जमानत अर्जी खारिज कर दी।  किला थाना में तैनात दारोगा अजय कुमार शुक्ला ने 18 जनवरी को चौधरी तालाब स्थित एक मकान में आरोपितों को नकली ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन बनाते हुए गिरफ्तार किया था। इंजेक्शन बनाने के लिए बाकायदा घर के अंदर फैक्ट्री लगा रखी थी। शहर के साथ जिले भर में आरोपित नकली इंजेक्शन की सप्लाई करते थे। पुलिस को मुखबिर के जरिए बता चला कि नकली इंजेक्शन बनाकर सप्लाई की जा रही है। इसके बाद पुलिस ने छापा मारा था। आरोप है कि चौधरी तालाब निवासी सुफियान घोसी व गुलाम नबी दुधारू पशुओं को इंजेक्शन लगाकर दूध उतारने के जरिए पशु क्रूरता करते थे। उन्होंने कारोबार के लिए प्रतिबंधितऑक्सीटोसिन इंजेक्शन डेयरियों पर सप्लाई करते थे। पुलिस ने एसिड व कच्चा माल भारी मात्रा में बरामद किया था । सरकारी वकील सचिन जायसवाल ने बताया कि दोनों आरोपितों की जमानत अर्जी अपर सेशन जज-प्रथम सुनील कुमार वर्मा ने खारिज कर दी है।

स्मैग के आरोपित की जमानत खारिज

बरेली: स्पेशल जज एनडीपीएस एक्ट इंद्र प्रकाश ने बिशारतगंज थाना क्षेत्र से गिरफ्तार आरोपित की जमानत अर्जी नामंजूर कर दी। दारोगा राम स्वरूप सिंह ने बीते 23 सितंबर को एक पेट्रोल पंप के निकट आरोपित सर्वेश गुप्ता को हिरासत में लिया था। उसकी जब तलाशी ली गई तो उसके पास से 50 ग्राम स्मैक बरामद हुई। सरकारी वकील संतोष श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपित सर्वेश विजयनगर कॉलोनी बदायूं का निवासी है। अदालत ने जमानत अर्जी नामंजूर कर दी है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप