जेएनएन, बरेली : नगर निगम कार्यकारिणी समिति में फिर एक बार भाजपा के पार्षद छंगामल मौर्य निर्विरोध उपसभापति निर्वाचित हो गए। सपा के पार्षद का नामांकन पत्र खारिज होने पर पार्षदों ने हंगामा कर दिया। उन्होंने गलत तरीके से पर्चा खारिज करने का आरोप लगाया। महापौर कार्यालय के बाहर जमीन पर बैठकर नारेबाजी की। फिर नगर आयुक्त को ज्ञापन देकर चुनाव प्रक्रिया निरस्त करने की मांग की।

नगर निगम कार्यकारिणी समिति के उपसभापति का चुनाव गुरुवार दोपहर करीब 12 बजे शुरू हुआ। चुनाव में उपसभापति चुनने के लिए कार्यकारिणी समिति के 12 सदस्य वोट करते हैं। इसमें आठ पार्षद भाजपा के हैं और चार समाजवादी पार्टी के हैं। भाजपा ने एक दिन पहले ही वार्ड 11 कटरा चांद खां के पार्षद छंगामल मौर्य को उपसभापति पद का उम्मीदवार बनाया था। चुनाव प्रक्रिया शुरू होने पर उन्होंने नामांकन पत्र भरा। सपा की ओर से वार्ड 15 हजियापुर के पार्षद रईस मियां अब्बासी ने नामांकन पत्र भरा।

जांच में उनका पर्चा खारिज कर दिया गया। इसके साथ ही छंगामल मौर्य को निर्विरोध उपसभापति घोषित किया गया। सपा पार्षदों ने गलत तरीके से पर्चा खारिज करने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। सभी महापौर कार्यालय के बाहर जमीन पर बैठ गए और नारेबाजी करने लगे। इसके बाद उन्होंने नगर आयुक्त को शिकायती पत्र देकर चुनाव प्रक्रिया निरस्त कराने की मांग की।

नाम के ऊपर लकीर खींचने पर पर्चा निरस्त करने का आरोप: सपा पार्षद रईस मियां के अनुसार उन्होंने अपने नामांकन में कार्यकारिणी सदस्य महलका कुरैशी को अनुमोदक और अफरोज अहमद को प्रस्तावक बनाया था। आरोप है कि नामांकन पत्र में प्रस्तावक के नाम के ऊपर लकीर खींचने पर पर्चा खारिज कर दिया गया। इस प्रकरण में सपा के पार्षदों ने काफी हंगामा भी किया।

उपसभापति का चुनाव निर्विरोध संपन्न हुआ है। सपा पार्षद के नामांकन पत्र में गड़बड़ी थी। इस कारण पर्चा खारिज किया गया। चुनाव होता तो भी वोटों की संख्या भाजपा के पास अधिक है।

- डॉ. उमेश गौतम, महापौर

अब उपनेता बनने को जोर आजमाइश

उपसभापति चुनाव के बाद अब पार्षदों में उपनेता बनने को जोर आजमाइश शुरू हो गई है। उपसभापति छंगामल मौर्य के इस्तीफे के बाद पद खाली हो गया है। पार्षदों के उप नेता पद पाने के लिए कई पार्षद लाइन में लग गए हैं। कोई वरिष्ठता के कारण सीट पक्की मान रहा है तो कुछ जातीय समीकरण भी भिड़ा रहे हैं।

नई कार से निकले उप सभापति

उपसभापति बनने के बाद छंगामल मौर्य को महापौर समेत तमाम पार्षदों ने बधाई दी। उन्हें फूल-माला पहनाई। इसके बाद ढोल बजाकर साथियों के साथ वह पूरे नगर निगम परिसर में घूमे। फिर नई कार से सभी का आभार जताया और नगर निगम से चले गए। 

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस