बरेली, जेएनएन। लालगढ़ से असम को जाने वाली अवध असम एक्सप्रेस की जनरल बोगी में बैठे यात्रियों पर फौजियों ने शुक्रवार को जमकर कहर ढाया। उन्हें मारपीट कर नीचे फेंक दिया। जंक्शन पर यात्रियों ने हंगामा किया, तब मामला रेलवे के साथ ही सेना के अधिकारियों तक भी पहुंच गया।

अवध असम एक्सप्रेस (15910) दोपहर करीब एक बजे बरेली जंक्शन पहुंची तो यहां कई फौजी जनरल कोच में घुसे। यात्रियों का आरोप है कि ट्रेन में घुसते ही जवान सबको बाहर निकलने की धमकी देने लगे। यात्रियों ने जनरल बोगी होने की बात कहते हुए उनका विरोध किया तो फौजियों ने उन्हें पीटकर बोगी से नीचे फेंकना शुरू कर दिया। पीड़ित यात्री शिकायत करने जीआरपी, आरपीएफ या जंक्शन के अधिकारियों के पास पहुंचते इससे पहले ट्रेन रवाना हो गई। बाद में हंगामा करते हुए सौ से ज्यादा पीड़ित यात्री स्टेशन मास्टर के पास पहुंचे। यहां से जीआरपी, आरपीएफ और फिर रेलवे स्टेशन प्रबंधन होते हुए आर्मी के आलाधिकारियों तक शिकायत पहुंची।

जूते-चप्पल तक पहनने का नहीं दिया मौका

यात्रियों का कहना था कि कुछ फौजी वर्दी में थे और कुछ सिविल में। कद-काठी के लिहाज से सब फौजी ही थे। पूरे वाक्ये के दौरान कई यात्रियों का सामान ट्रेन में छूट गया। वहीं, करीब दस यात्री जूते-चप्पल भी नहीं पहन सके। सभी के पास टिकट भी था।

हरदोई में उतारा गया यात्रियों का सामान

जीआरपी, आरपीएफ और रेलवे स्तर पर मैसेज मिलने के बाद हरदोई स्टेशन पर ट्रेन से मुसाफिरों का सामान उतरवाया गया। वहीं, सभी उतारे गए यात्रियों को काठगोदाम-लखनऊ एक्सप्रेस (15044) में बैठाया गया। ट्रेन को विशेष रूप से हरदोई स्टेशन रुकवाया जाएगा, ताकि सभी अपना सामान ले सकें।

जीआरपी इंस्पेक्टर बोले- सुपुर्द किया जाएगा सामान

ट्रेन से उतारे गए यात्रियों के सामान की सुरक्षा और बरामदगी के लिहाज से अगले स्टेशनों को सूचित कर दिया गया। हरदोई में सामान उतरवा लिया है। शाम तक सुपुर्द कर दिया गया। -किशन अवतार, इंस्पेक्टर, जीआरपी बरेली जंक्शन 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Pandey