बरेली, जेएनएन। 'सर, बहुत गरीब हूं। हमारे जीवन का सवाल है..आप हमारे गुरू हैैं ...पिता समान भी हैैं। इसलिए पास कर देंगे तो महान कृपा होगी। रविवार को राजकीय इंटर कॉलेज में इंटरमीडिएट हिंदी की कॉपी जांच रहे एक परीक्षक ने यह देखा तो दंग रह गए। छात्र ने कॉपी में बहुत कम प्रश्न हल किए थे।

लॉकडाउन के बीच बरेली में पांच केंद्रों पर बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियां जांची जा रही हैैं। कई दिनों बाद अब कॉपियों में सिफारिशें भी निकलनी शुरू हो गईं। राजकीय इंटर कॉलेज मूल्यांकन केंद्र पर कई कॉपियों में छात्र-छात्राओं ने पास करने की सिफारिश के साथ अपना मोबाइल नंबर भी लिख दिया।

हिंदी विषय की एक अन्य कॉपी में छात्र ने लिखा, 'सर जी, मेरी मां बहुत बीमार है। इसलिए पढ़ाई नहीं कर पाया। आप मुझे पास कर दीजिएगा। एक अन्य कॉपी में छात्रा ने लिखा, 'श्रीमान जी...मैं एक हिंदुस्तानी हूं..आर्मी पुलिस बनना चाहती हूं, इसलिए अच्छे नंबर दे दीजिएगा। शिक्षक का कहना था कि इस तरह की सिफारिशें कॉपी में निकलती रहती हैैं। लेकिन जितना सही लिखा है, उतने ही नंबर दिए जाते हैं।

आज नहीं होगा मूल्यांकन

एफआर इस्लामिया इंटर कॉलेज में सोमवार को ईद-उल-फित्र की वजह से कॉपियों का मूल्यांकन नहीं होगा। कॉलेज प्रशासन के मुताबिक 26 मई को समय से मूल्यांकन किया जाएगा।

बिजली हुई गुल, गर्मी से परीक्षक परेशान

यूपी बोर्ड के मूल्यांकन केंद्रों पर कई जगह रविवार को बिजली की आपूर्ति बाधित रही। रविवार को राजकीय इंटर कॉलेज में सुबह 10 बजे से मूल्यांकन हो रहा था। परीक्षकों के मुताबिक कुछ देर बाद ही बिजली चली गई। करीब डेढ़ घंटे तक बिजली आपूर्ति न होने की वजह से गर्मी ने परेशान कर दिया। एससी-एसटी ओबीसी अल्पसंख्यक शिक्षक महासभा के पदाधिकारी भी वहीं कॉपी जांच रहे हैं।

उन्होंने इसकी शिकायत कॉलेज प्रशासन और डीआइओएस से की। जिसके बाद जनरेटर की व्यवस्था हुई। पीने का पानी खत्म होने की भी शिकायत हुई। उप प्रधानाचार्य कुसुमलता का कहना है कि बिजली जाने के बाद जनरेटर की व्यवस्था कराई थी। वहीं, एसवी इंटर कॉलेज में भी दिनभर ट्रिपिंग हुई। यहां जनरेटर था।

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस