बरेली, जेएनएन। Shahjahanpur Weather News : जून की पहली सुबह शाहजहांपुर में मेघ गर्जना और रिमझिम बारिश के साथ हुई।तेज हवार के साथ हुई 6 मिमी बारिश से न्यूनतम तापमान 6.8 डिग्री सेल्सियस गिरकर 20.9 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। इससे मौसम खुशगवार हो गया। आर्द्रता 89 फीसद पर पहुंच गई। बारिश से गन्ना समेत अन्य फसलों को फायदा पहुंचा है, लेकिन आंधी से आम की फसल को नुकसान हुआ है।

मौसम विभाग ने एक व दो जून को मेघ गर्जना के साथ बारिश की संभावना जताई थी। सोमवार व मंगलवार की रात 6 मिमी बारिश से भविष्यवाणी पर मुहर लग गई।मौसम विज्ञानी डॉ मनमोहन सिंह का कहना है कि बारिश के बाद वायुदाब 35 मिलिबार बढ़ा है। इससे आसमान में छाए बादल छटेंगे, लेकिन मौसम के उतार चढ़ाव की वजह से दो जून को बूंंदाबादी हो सकती है।जनवरी से अब तक 123 मिमी बारिश ही चुकी है। जो कई सालों में सर्वाधिक है। मई में रिकार्ड 103 मिमी बारिश हुई है।

शहर से लेकर गांव तक छाया बिजली संकट : मंगलवार तड़के चली तेज हवा से शहर से लेकर गांव तक बिजली आपूर्ति ठप हो गई।निगोही रोड, कैंट, तिलहर बादशाह नगर तथा अटलिया क्षेत्र में कई जगह बिजली के खंभे टूट गए। इससे लगभग सभी फीडरों की आपूर्ति ठप हो गई । अधीक्षण अभियंता ने रामनरेश जनपद के सभी बिजली घरों के लिए स्पेशल टीम लगाकर आपूर्ति सुचारू करने के निर्देश दिए हैं। शहर में अधिशासी अभियंता प्रशांत गुप्ता ने मरम्मत के लिए 9 टीमें लगाई हैं। बिजली आपूर्ति के देर शाम तक सुचारू होने की संभावना है।

शहरी क्षेत्र में सबसे ज्यादा निगोही रोड बिजली घर से जुड़े है। तेज हवा के कारण गिरे पेड़ों की चपेट में आकर तीन बिजली के खंभे गिर गये। इससे बिजली घर के सभी फीडरों की आपूर्ति को बंद कर दी गई। हथोड़ा बिजली घर के अंटा मोहल्ला फीडर की भी लाइन भी डैमेज हो गई। इससे बृज बिहार कॉलोनी, अंटा चौराहा , बिजलीपुरा, हयात पूरा, चमकनी आदि क्षेत्रों की आपूर्ति ठप हो गई। अधिशासी अभियंता प्रशांत गुप्ता ने बताया दोपहर तक सभी प्रमुख फीडरों की आपूर्ति को सुचारू कर दिया जाएगा।

ग्रामीण क्षेत्रो में छाया संकट : तेज हवा के कारण दर्जनों पेड़ बिजली लाइनों पर गिर गए। इससे ग्रामीण क्षेत्रो में भी बिजली संकट छाया रहा। रोजा, अटसलिया, बादशाह नगर सिंधौली, खुदागंज , तिलहर, जलालाबाद, कलान आदि लगभग सभी क्षेत्रों में बिजली संकट बना हुआ है। लाइनों के टूट जाने से आपूर्ति ठप है। सभी बिजली घरों की लाइनों की मरम्मत के लिए टाइम लगी हुई है।

Edited By: Samanvay Pandey