बरेली, जेएनएन : सेंट्रल जेल में बुधवार सुबह एकाएक डीएम वीरेंद्र कुमार सिंह और एसएसपी मुनिराज जी ने अफसरों, पुलिस फोर्स के साथ छापा मारा। अधिकारियों ने एक-एक बैरक में जाकर तलाशी ली। इस दौरान जमीन में चम्मच से बने चाकू, लाइटर व माचिस आदि दबे मिले। जेल में प्रतिबंधित सामान मिलने से सुरक्षा दावों की भी पोल खुलकर सामने आ गई। 

यह भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर के बंदियों के लिए पहले ही कर ली गई थी तैयारी www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-preparations-were-already-done-for-the-prisoners-of-jammu-and-kashmir-bareilly-news-19487791.html

सुबह करीब सवा आठ बजे डीएम व एसएसपी के साथ एडीएम सिटी, सिटी मजिस्टे्रट, सीओ और कई थानेदार सेंट्रल जेल में छापामारी के लिए पहुंचे। अधिकारियों ने बैरक में जाकर बंदियों और उनके सामान की भी तलाशी ली। इस दौरान कुछ बंदियों के सामान और कुछ बैरक की जमीन में चम्मच से बनाए गए चाकू दबे मिले। इसके अलावा लाइटर, सिगरेट आदि सामान भी बरामद हुआ। डीएम और एसएसपी ने जेल में बंद माफिया डॉन बबलू श्रीवास्तव से भी बातचीत की। इस वक्त सेंट्रल जेल में 2098 बंदी बंद है। करीब पौने तीन घंटे तक अधिकारी जेल के अंदर रहे। इस दौरान बैरक, भोजनालय, शौचालय आदि चेक किया। 

यह भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर की जेल से बरेली शिफ्ट किए 20 बंदी : www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-20-detainees-shifted-from-jammu-and-kashmir-to-bareilly-19477249.html

जेलर का दावा, चाकू नहीं चम्मच मिले

छापामारी के दौरान चाकू मिलने के बाबत सेंट्रल जेल के जेलर व कार्यवाहक अधीक्षक अशोक कुमार ने बताया कि टूटे हुए चम्मच मिले हैैं। कोई आपत्तिजनक चीज बरामद नहीं हुई है। 

चम्मच से जेल में सुरंग कर भागा था बंदी 

सेंट्रल जेल में बंद बिजनौर का बंदी रईस 12 जनवरी 2011 की रात चम्मच के सहारे सुरंग खोदकर सेंट्रल जेल से भाग गया था। यह घटना पूरे उत्तर प्रदेश में चर्चा का विषय बनी थी। बमुश्किल उसे एसटीएफ के इंस्पेक्टर अजय पाल यादव ने मई 2015 में गिरफ्तार किया था। 

Posted By: Abhishek Pandey