जेएनएन, बरेली : गणेश नगर सर्राफा व्यापारी कमल किशोर की हत्या के मामले में गुरुवार को एडीजी अविनाश चन्द्र घटना स्थल पर पहुँचे। उन्होंने घटना स्थल का मुआयना किया। इसके साथ ही आस पड़ोस के लोगों से बातचीत कर जानकारी ली। इसके बाद उन्होंने मौके पर मौजूद सीओ द्वितीय और एसपी सिटी को दिशा निर्देश भी दिए। इस हत्याकांड में दुकान से खाली शराब की बोतल मिलने के बाद पुलिस की सुई करीबियों पर घूम रही है। गौरतलब है कि बेखौफ बदमाशों ने बुधवार की रात को साढ़े दस बजे दुकान में घुसकर सर्राफ की गोली मारकर हत्या कर दी थी और जेवर से भरी गठरी लूटकर फरार हो गए।  

दुकान बंद करते समय की वारदात : बदमाशों ने दुकान बंद करते समय हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। नकाबपोश बदमाशों ने सुभाषनगर के रामअवतार हलवाई रहने वाले कमल किशोर वर्मा (42) पुत्र ओमकार वर्मा सर्राफ को अपना निशाना बनाया था। कमल ने गणेशनगर में ढाई साल पहले कमल ज्वैलर्स के नाम से दुकान खोली थी।

बंद हो चुकी थी आस पास की दुकानें : बदमाशों ने जिस वक्त वारदात को अंजाम दिया था, उस समय आस पास की दुकानें बंद हो चुकी थी। लोग घरों के अंदर थे।गोली चलने की आवाज सुनकर जब आस पास के लोग बाहर निकले तो घटना का पता चला। दुकान से लहुलुहान हालत में बाहर निकले व्यापारी के चेहरे पर गोली लगी थी।जिसके बाद वह गिर गए। 

मढ़ीनाथ मंदिर की आेर भागे बदमाश : लोगों के मुताबिक वारदात करने के बाद बदमाश बाइक से मढीनाथ मंदिर की ओर भागे थे। जो नकाब पहने हुए थे। सुभाषनगर पुलिस पहुंची और गंभीर रूप से घायल सर्राफ को अस्पताल लेकर गई। तब तक उनकी मौत हो चुकी थीं।

हत्या की जानकारी मिलते ही पहुंचे अफसर : सर्राफ की हत्या की सूचना मिलते ही मौके पर डीआइजी राजेश पांडेय, एसएसपी शैलेश पांडेय, एसपी क्राइम रमेश भारतीय आदि अफसर पहुंच गए। जानकारी लेने के बाद बदमाशों की तलाश में चार टीमें गठित की। पुलिस ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे चेक किए तो उसमें दो बदमाश गोली मारकर भागते दिखाई दे रहे हैं। वे सर्राफ से जेवरात भरी गठरी भी लूट ले गए हैं। 

सर्राफ की दो बदमाशों ने गोली मारकर हत्या की है। लूट के बारे में अभी जानकारी नहीं है। तफ्तीश की जा रही है। बदमाशों की घेराबंदी के लिए टीमें गठित कर दी गई हैं। बदायूं की पुलिस को भी अलर्ट कर दिया है। बदमाशों के बदायूं की तरफ ही भागने की संभावना जताई जा रही है।  -राजेश पांडेय, डीआइजी

रोजाना की तरह कमल वर्मा दुकान खोलने आए थे। रात को करीब साढ़े दस बजे तक वह दुकान पर बैठते थे। इसके बाद दुकान बंद करने की तैयारी में थे, उसी दौरान अज्ञात हमलावरों ने गोली मार दी। हमारी किसी से रंजिश नहीं है। वारदात करने वाले लोग कौन थे, इस बारे में कुछ नहीं कह सकते। - ओमकार वर्मा, कमल के पिता

एक मिनट में दागी तीन गोलियां : गणेशनगर में सर्राफ की हत्या व लूट की वारदात को एक मिनट के अंदर अंजाम दिया। बाइक से दो लुटेरे दुकान के अंदर धड़धड़ाते हुए घुसे। सर्राफ कमल किशोर वर्मा को निशाना बनाते हुए उन पर तमंचे से फायर किए। तीन गोलियां लगते ही कमल जमीन पर गिरे, इतने में लुटेरे वहां रखी पोटली लेकर फरार हो गए। पूरा घटनाक्रम दुकान के अंदर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया।

सीसीटीवी कैमरे में यह भी हुआ रिकार्ड : रात करीब साढ़े दस बजे जब सर्राफ कमल किशोर दुकान बंद करने से पहले पूजा आदि कर रहे थे। इसी दौरान एक युवक आया जिसे उन्होंने कुछ सामान दिया। वह उनसे नमस्कार कर चला गया। इसके कुछ ही देर बाद दो युवक बाइक से आए और बाइक दुकान के बगल में जीने के पास खड़ी कर दी। दोनों बाइक से उतरने के बाद दुकान के शटर के नीचे खड़े हुए।

एक बदमाश ने वापस लौट कर दागी थी गोली : दोनों तमंचे एक युवक के पास ही थे, दोनों ने एक-एक तमंचा लिया, तब कमल किशोर सामने देख रहे थे। लेकिन इससे पहले कि वह कुछ समझ पाते इतने में एक युवक दुकान के अंदर जाकर सीने से सटा कर गोली मारी, इसके बाद दूसरे ने भी गोली चला दी। बाद में दोनों बाइक की तरफ भागे, लेकिन उनमें से एक युवक वापस लौटा और एक और गोली दाग दी। एक गोली सर्राफ के सीने पर और दूसरी चेहरे के पास लगी। तीसरी गोली पेट के आसपास लगी बताई जा रही है।

फुटेज में दिखने वाले बदमाशों ने उठाई पोटली : सीसीटीवी में कैद हुई वारदात में बदमाशों के चेहरे स्पष्ट नहीं हो सके हैं। बदमाश दुकान से पोटलीनुमा कुछ उठाकर ले जाते दिख रहे हैं, लेकिन पुलिस उसे चाबी बता रही है। पुलिस की टीमें आरोपितों की तलाश में जुटी हुई हैं। वारदात के करीब एक घंटे बाद फोरेंसिक टीम मौके पर पहुंच गई। टीम ने घटनास्थल से साक्ष्य जुटाए हैं। मौके से एक बुलेट भी बरामद हुई है।

वारदात के बाद सर्राफ के बेटे को सौंपा सामान : वारदात के बाद सामने रहने वाले रामप्रकाश ने अपने बेटे को भेजकर सर्राफ के घर सूचना दी। सूचना पर बेटा अंश दुकान पहुंचा, जिसे पुलिस ने दुकान में रखा सामान सौंप दिया। सूचना के बाद कमल किशोर के पिता ओमकार मौके पर पहुंच गए। कमल किशोर के पिता ओमकार ने बताया कि उनका पूरा परिवार एक ही घर में रहता है। बड़ा प्रवीण कुमार टेलरिंग गुड्स का काम करता है, जो सुभाष नगर स्थित घर में ही है। कमल किशोर के तीन बच्चे हैं। इनमें बेटा अंश (12) बेटी रिया (07) बेटी लाल (06) हैं। पत्नी नीलम गृहणी हैं।

वारदात के पहले बदमाशों ने लगाए थे कई चक्कर : घनी बस्ती में जिस तरह बदमाशों ने वारदात को अंजाम दिया, उससे यह साफ लगा कि बदमाश पिछले कई दिन से सर्राफ की रेकी कर रहे थे। वारदात का समय बदमाशों ने ऐसा चुना कि तब तक आसपास की दुकानें बंद हो चुकी होती हैं। लोग भी अपने घरों के अंदर जा चुके थे। तब घटना को अंजाम दिया। 

नही स्पष्ट हो सकी बदमाशों के सीधे गोली मारने की वजह : बदमाशों के सीधे गोली मारने की वजह अभी साफ नहीं हुई है। गोली चलने की आवाज पर जब आसपास के लोग बाहर आए तो बदमाश बाइक से फरार हो गए। एक तो अंधेरा था और दूसरे बदमाशों के हेलमेट लगाए होने की वजह से उनकी पहचान नहीं हो सकी। बाइक का नंबर भी नहीं देखा जा सका। पुलिस टीम के साथ क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया है।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस