बदायूं, जागरण संवाददाता। Badaun Sanskarshala 2022 : आज हमारी जीवन शैली में इंटरनेट एक अनिवार्य हिस्सा बन गया है। जैसे हवा बिना एक पल नहीं जी सकते ठीक वैसे ही इंटरनेट के बिना एक कदम उठाना मुश्किल हो रहा है। इंटरनेट एक विशाल नेटवर्क सिस्टम एक विश्वव्यापी कनेक्शन है।

इंटरनेट हमारे जीवन को आसान और अधिक सुविधाजनक बना दिया है इंटरनेट के कुछ फायदे भी है तो कुछ नुकसान भी है। ये इंटरनेट के उपयोगकर्ता पर निर्भर करता है कि वह इंटरनेट का उपयोग किस प्रकार करता है। उपयोग कि बात करें तो हम ऑनलाइन शिक्षा, खेल, मनोरंजन, चिकित्सा, कृषि एवं अन्य क्षेत्र में किया जाता है।

ईमेल के माध्यम से दुनिया के किसी भी क्षेत्र में संदेश भेजना संभव है और संदेश कुछ ही सेकेंड में दिया जाता है। इंटरनेट के अनगिनत फायदे के साथ अनगिनत नुकसान भी हैं। इंटरनेट का नुकसान इस बात पर निर्भर करता है कि आप इंटरनेट से किस प्रकार संलग्न हैं। जब कोई चीज आदत बन जाती है तो वह हमारे लिए नुकसानदायक साबित होती है।

ठीक इसी तरह यदि आप इसका उचित मात्रा में इसका इस्तेमाल करते हैं तो इसके फायदे ही फायदे हैं। वास्तव में इंटरनेट की दुनिया सबसे निराली है। यह पुस्तकालय से लेकर अन्य किसी भी सटीक जानकारी देने का सर्वोत्तम कार्य करता है। इंटरनेट में संपूर्ण जगत को जोड़ने का कार्य संभव बनाया है।

इंटरनेट मीडिया के माध्यम से जैसे वाट्सएप, टेलीग्राम, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम। अब हम इंटरनेट के दुरुप्रयोग की ओर आते हैं। जहां कई नुकसान भी हैं, इससे साइबर काइम जैसे अन्य कई आपराधिक घटना घटती रहती हैं। दैनिक जीवन में हम इंटरनेट का उपयोग सही जगह न कर बल्कि अपना बहुमूल्य समय फेसबुक, इंस्टाग्राम जैसे इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म पर अपना बहुमूल्य समय खराब करते हैं।

जिससे विद्यार्थी के जीवन में पठन-पाठन व लक्ष्य का भटकाव तथा इससे विभिन्न प्रकार की बीमारी भी प्रारंभ हो जाती है और हम संस्कार, शिष्टाचार से दूर होते चले जाते हैं। यदि बात उपयोगित की करें तो शिक्षा के क्षेत्र में इंटरनेट का बहुत योगदान रहा, जिससे बच्चों को कोविड -19 में एक नई दिशा मिली। समय का सदुप्रयोग किया।

कोविड-19 में सरकार ने ही हर विद्यालय में जरूरी कर दिया था कि पढ़ाई आनलाइन हो। इसी दौरान मोबाइल चलाने का भरपूर मौका मिला और बच्चे उपयोग व दुरुपयोग दोनों सीख गए। यह हमारे उपर निर्भर है कि हम किस प्रकार से और कितने समय के लिए बच्चों को मोबाइल का उपयोग करने दे रहे हैं।

अभिभावकों को भी चाहिए कि बच्चों को इंटरनेट मीडिया के प्रति सतर्क करते हुए और इंटरनेट के प्रति उनको सकरात्मक रहने व उनका इंटरनेट का अधिक से अधिक उपयोग शिक्षा एवं डिजिटल तकनीकों को समझने में करें। अभिभावकों को बच्चों के इंटरनेट प्रयोग के समय ध्यान देना चाहिए, जिससे वह इंटरनेट का सही उपयोग करें।- प्रदीप कुमार शर्मा, प्रधानाचार्य, भूदेवी वार्ष्णेय इंटर कालेज बिल्सी, बदायूं

Edited By: Ravi Mishra