बरेली, जेएनएन। Saheed Saraj Singh Wife Rajvinder Singh: देश की रक्षा में प्राणों का बलिदान देने वाले सारज सिंह की पत्नी रजविंदर कौर का कहना कि उन्हें इंसाफ चाहिए। दैनिक जागरण से बातचीत में बोलीं सरकार के कहने से कुछ नहीं होगा। बातें बहुत हो चुकीं। जिन लोगों ने उनसे उनका सुहाग छीना उन आतंकियों को ढूंढ-ढूंढ कर मारना चाहिए। आतंकवाद का पूरा सफाया होना चाहिए। रजविंदर से जब पूछा कि सेना लगातार आपरेशन चला रही है। आतंकी भी मारे जा रहे हैं तो उनका कहना था कि इससे कुछ नहीं होने वाला। जब तक सरकार कड़े कदम नहीं उठाती जवान यूं ही बलिदान होते रहेंगे। अगर पहले से ही ध्यान दिया होता तो उनके पति के साथ यह सब नहीं होता। अन्य सैनिक भी बलिदान नहीं होते। रजविंदर ने बताया कि उनके पति अपनी ड्यूटी पर काफी गंभीर रहते थे। वह वहां के बारे में कभी कुछ ज्यादा नहीं बताते थे। बस यही कहते थे कि यहां सब ठीक है। तुम तनाव न लेना। यह बताते हुए वह फिर से रोने लगीं।

दो कौर भी गले से नहीं उतरे, आया तेज बुखार

जब से पति के वीरगति प्राप्त होने की जानकारी मिली है रजविंदर कौर बेसुध हैं। उनको संभालना मुश्किल हो रहा है। मंगलवार रात किसी तरह मां व सास ने उनको खाना खिलाने की कोशिश की, लेकिन दो कौर भी मुंह में न चले। तबीयत खराब है। रात से तेज बुखार भी है, लेकिन वह एक ही रट लगाए हैं मेरे पति को बुला दो। उनसे मेरी बात करा दो। सुखवीर सिंह ने बताया कि मां परमजीत कौर व सारज की सास कुलवीर कौर पूरे समय रजविंदर के पास बैठी रहीं। सोमवार से उन्होंने कुछ खाया नहीं था। ऐसे में दोनों ने रात किसी तरह उन्हें खाना खिलाने की कोशिश की, लेकिन दो कौर भी नहीं खाए। बुखार होने के कारण दवा देकर सुलाने की कोशिश की गई, पर वह रात भर जागती रहीं। हालत इतनी खराब है कि बुधवार को बिना सहारे खड़े नहीं हो पा रही थीं।

Edited By: Ravi Mishra