जागरण संवाददाता, बरेली: ग्राम पंचायत अधिकारी (वीडीओ) की बेटी से रिश्ता तय हो गया। तिलक तक 24 लाख रुपये खर्च हो गए। इसके बाद दहेज लोभियों ने 50 लाख रुपये की मांग कर दी। विवाह के लिए दबाव बढ़ा तो कहा कि कस्टम अधिकारी को दहेज में एक करोड़ से कम नहीं मिलते, चाहे तो पता कर लो। इसके बाद रिश्ता तोड़ दिया। इज्जतनगर पुलिस ने छह आरोपितों लोकेश निवासी अनूपनगर फजलपुर सदर बाजार मेरठ, राजेश, हरवीर, रणवीर, आरोपित पति की दोनों भाभी अनीता के खिलाफ दहेज प्रतिषेध अधिनियम में रिपोर्ट दर्ज की है।

पीड़ित ग्राम पंचायत अधिकारी ने बताया कि बीएससी नर्सिंग कर रही इकलौती बेटी का जनवरी 2020 में आनलाइन रिश्ता देखा। पता चला कि लोकेश निवासी अनूपनगर फजलपुर सदर कैंट मेरठ में कस्टम विभाग में नौकरी करता है। बातचीत के बाद रिश्ता तय हो गया। 12 अगस्त 2020 बेटी का तिलक चढ़ गया। तिलक तक करीब 24 लाख रुपये खर्च हो गए। इनोवा कार के लिए तिलक में आरोपितों को नकद रकम दे दी। इसके बाद लोकेश ने शादी के लिए कुछ दिन रुकने की बात कही। 2020 बीत गया। दबाव बढ़ा तो आरोपित 50 लाख रुपये की मांग करने लगे। रकम न देने पर रिश्ता तोड़ दिया। थाने तक मामला पहुंचा तो आरोपित ने 11 लाख रुपये वापस कर दिए। शेष रकम नहीं दी और दूसरी जगह रिश्ता कर लिया। इधर शादी टूटने की वजह से युवती व उसके स्वजन मानसिक रूप से परेशान हैं।

वर्जन

वीडीओ की तहरीर पर आरोपितों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी गई है।

- सतीश यादव, इंस्पेक्टर, इज्जतनगर

Edited By: Jagran