जेएनएन, बरेली : लखनऊ मेल के स्लीपर कोच में आरपीएफ पर उगाही का आरोप और वीडियो वायरल होने के मामले में बड़ौदा हाउस की जांच तेज हो गई। मंगलवार को रेलवे बोर्ड मुख्यालय ने टीटीई और आरपीएफ के आरोपित जवानों को पूछताछ के लिए बुलाया था। यहां टीटीई राजेश कुमार, कंडक्टर विजय कुमार और भावेश कुमार के अलावा आरपीएफ के आरोपित जवानों से दो दिन तक पूछताछ हुई। इसके बाद गुरुवार को मुरादाबाद मंडल में अलग से गठित इन्क्वायरी टीम ने पूछताछ की। बताया जा रहा कि लखनऊ मेल जैसी वीआइपी ट्रेन में वसूली प्रकरण को रेलवे बोर्ड ने काफी गंभीरता से लिया है।

यह था मामला

दिल्ली से लखनऊ जाने वाली लखनऊ मेल के एस-5 में 20 अप्रैल को आरपीएफ और टीटीई आमने-सामने आ गए थे। बताया गया कि आरपीएफ जवानों ने स्लीपर कोच में बैठे मुसाफिरों से अवैध वसूली की। टिकट चेकिंग के दौरान ड्यूटी पर मौजूद टीटीई को इस बाबत जानकारी हुई। इस पर विवाद हो गया। टीटीई ने वीडियो बनाया, जिसमें कई मुसाफिर आरपीएफ जवान की वसूली और अभद्रता की शिकायत कर रहे थे।

आज स्पष्ट होगी स्थिति

मंगलवार को बड़ौदा हाउस में पूछताछ के लिए बुलाया था। वहां दो दिन तक पूछताछ हुई। गुरुवार को मुरादाबाद मंडल में जांच के लिए टीटीई व अन्य स्टाफ को रोका गया है। शुक्रवार को स्थिति स्पष्ट हो सकेगी। -एके चौबे, मुख्य टिकट निरीक्षक, बरेली जंक्शन  

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस