जेएनएन, पीलीभीत : टाइगर रिजर्व में दो नई रेंज बनाने की संभावनाएं तेजी से तलाशी जा रही हैं। नई रेंज बनाने का कारण टाइगर रिजर्व में लगातार बढ़ रही वन्यजीवों की संख्या के मद्देनजर उनकी सुरक्षा एवं सरंक्षण को ज्यादा प्रभावी बनाना माना जा रहा है। अभी तक पूरा जंगल पांच रेंज में है।

टाइगर रिजर्व प्रशासन बराही रेंज की मुस्तफाबाद वन चौकी और माला रेंज की गढ़ा वन चौकी को उच्चीकृत करके नई रेंज बनाने की तैयारी में है। प्रस्ताव बन रहा, शासन से मंजूरी के बाद नई रेंज अस्तित्व में आ सकेंगी।

सिखाया जाएगा वन्यजीवों के पोस्टमार्टम का तरीका

टाइगर रिजर्व के फील्ड कर्मचारियों, पशु चिकित्सकों को वन्यजीवों के पोस्टमार्टम करने का तरीका सिखाने के लिए भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान से विशेषज्ञों की टीम टाइगर रिजर्व आएगी।

इसके लिए पीलीभीत टाइगर रिजर्व के डिप्टी डायरेक्टर नवीन खंडेलवाल ने बरेली स्थित भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान से वन्यप्राणि केंद्र के प्रभारी डॉ. एम. पावड़े व वैज्ञानिक डॉ. करिकरन को प्रशिक्षण देने बुलाने को पत्र भेजा है। 

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस