बरेली, जेएनएन । कोरोना वायरस से जिंदगी बचाने के लिए सरकार और विशेषज्ञ लोगों को  दूरी जरुरी है का फार्मूला समझा रहे हैं। लेकिन बरेली की मंडी में लोग सब्जी खरीदते वक्त जिंदगी के लिए दूरी जरुरी का फार्मूला भूल गए। हालात ये रहे कि उमड़ी भीड़ ने काेरोना वायरस के लिए बरते जाने वाले सभी एहतियात को ताक पर रख दिया। अपने साथ दूसरों की भी जान जोखिम डालते हुए यह नजारा देखने को मिला। 

सुबह मंडी समिति परिसर में सब्जी की दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ दिखी, जबकि सब्जी व दूध लोगों के दरवाजों तक पहुंचा। अधिकतर दुकानें दोपहर बाद ही बंद हो गईं। बाहरी क्षेत्रों से आए 70 लोगों की पीएचसी रामनगर पर जांच की गई। भमोरा तिराहे पर एसडीएम केके सिंह,सीओ रामप्रकाश व एसओ सौरभ सिंह ने पैदल लौट रहे मजदूरों को खाने के पैकेट मुहैया कराए। उन्हें भिजवाने के लिए वाहन की व्यवस्था कराई गई।

एक थाने के आरक्षी को जांच में कोरोना जैसे लक्षण नहीं पाए गए हैं, फिर भी एहतियात के तौर पर उसे थाना परिसर में एक कमरे में क्वारंटाइन किया है। दुबई से ¨भड़ौरा लौटे दो युवकों की स्क्रीनिंग की गई। गैनी में गली में एक व्यक्ति ठेले पर सब्जी बेच रहा था। भीड़ एकत्र होती देख पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। मामले की शिकायत क्षेत्रीय विधायक से की गई है।

 

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस