बरेली, जेएनएन : भाजपा के महापौर उमेश गौतम के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने की रिपोर्ट दर्ज होने के दूसरे दिन दोपहर को वह अपने कार्यालय पहुंचे। उनसे मिलने पहुंची जनता की उन्होंने बात भी सुनी।

इसी बीच बिथरीचैनपुर विधायक राजेश मिश्र उर्फ पप्पू भरतौल भी उनसे मिलने आए। विधायक के आने पर महापौर उनके साथ अंदर कक्ष में बैठ गए। वहां दोनों ने चाय पी और मौजूदा हालात पर चर्चा की। अधिकारियों द्वारा दर्ज कराए गए मुकदमे को लेकर भी उनमें बातचीत हुई।

करीब 15 से 20 मिनट ही विधायक वहां रुके। इसके बाद अपने साथियों के साथ वहां से चले गए। महापौर और विधायक ने बंद कमरे में क्या बातें की, उन्होंने नहीं बताया। हालांकि चर्चा है कि नगर निगम के ताजा घटनाक्रम के बाद महापौर पर दर्ज हुई रिपोर्ट से विधायक भी नाराज हैं।

होने लगी चर्चाएं

बिथरी चैनपुर विधायक राजेश मिश्र उर्फ पप्पू भरतौल अपनी बेटी साक्षी के प्रेम विवाह करने के बाद से देशभर में सुर्खियों में हैं। हाईकोर्ट में साक्षी और अजितेश की शादी वैध घोषित होने के बाद शायद पहली बार विधायक राजेश मिश्रा राजनीतिक कार्य में पुन: सक्रीय हुए। उनके नगर निगम में पहुंचते ही तमाम तरह की चर्चाएं होने लगी। वहीं, महापौर के साथ बंद कमरे में बातचीत करने को कई तरह से जोड़कर देखा जा रहा है। 

बंद कमरे में बात करना, चाय पीना अौर चुपचाप वहां से चले जाने को लेकर राजनीतिक गलियारे में सुगबुगाहट तेज हो गई है। इस दौरान विधायक राजेश मिश्रा ने महापौर के आलावा न तो किसी से बात की और न ही मीडिया से मुखातिब हुए। ऐसे में विधायक के अगले कदम की ओर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं। 

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप