बरेली, जेएनएन : बाल विष्णु सदन कालीबाड़ी के बूथ संख्या 290 की गिनती में गड़बड़ी के आरोप का विवाद थम नहीं रहा है। अब इस मामले में सपा की तरफ से मांग उठाई गई है कि अगर कालीबाड़ी में पार्टी उम्मीदवार को ज्यादा वोट मिलना संदेह के घेरे में हैं तो फिर पुराना शहर के कई मुस्लिम बाहुल्य मुहल्लों में कमल कैसे खिल गया? तब जबकि चुनाव के दौरान गठबंधन की हवा दिखाई दे रही थी। लिहाजा कालीबाड़ी के साथ मुहल्ला चक और नवादा शेखान इत्यादि के बूथों पर गिनती की भी जांच होना चाहिए।
प्रशासन इस मामले से जितना पीछा छुड़ाने की कोशिश में लगा है, उतना ही यह उसके लिए सिरदर्द बनता जा रहा है। मुद्दा हाथ आने से सपा मुखर हो गई है। पार्टी की तरफ से मामले को काफी आगे तक ले जाने की तैयारी चल रही है। सपा और उसके नेता जिला निर्वाचन अधिकारी के जवाब को सही नहीं मान रहे हैं। यही वजह है कि एक बूथ पर गिनती में चूक का विवाद अभी थमा नहीं, 17 और बूथों की सूची डीएम को सौंपने की तैयारी कर ली गई है।


17 अगस्त को जागरण में प्रकाशित खबर। जागरण 

इन बूथों को लेकर लोकसभा चुनाव में सपा प्रत्याशी रहे भगवत सरन गंगवार का कहना है कि गढ़ होने के बाद यहां से हमें बहुत कम वोट मिले हैं। सपा प्रवक्ता रहे योगेश यादव का कहना है कि पुराना शहर के मुहल्ला चक स्थित शैली पब्लिक स्कूल के बूथ संख्या 108 और 109 पर भाजपा के खाते में अप्रत्याशित वोट दर्ज हुए। तब जबकि यह बूथ पूर्व से सपा का गढ़ रहता चला आ रहा है। मुस्लिम आबादी वाले इन दोनों बूथों पर भाजपा को 607 और 382 जबकि सपा को 50 और 109 वोट मिले।
ऐसे ही नवादा शेखान, जवाहर स्कूल, तिलक इंटर कॉलेज, पंजाबियान जैसे बूथों पर भी मुस्लिम आबादी होने के बावजूद कमल खिला। चुनाव के दौरान सपा-बसपा गठबंधन की हवा दिख रही थी लेकिन जब रिजल्ट आया तो हमारे गढ़ वाले इलाकों के वोट भी भाजपा उम्मीदवार के खाते में चले गए। डीएम के स्तर से साफ होना चाहिए कि कहीं इन बूथों की फीगर भी ऊपर नीचे तो नहीं हुई है। सपा की तरफ से इन बूथों की सूची मंगलवार को डीएम के हवाले की जाएगी।

यह भी पढ़ें : केंद्रीय मंत्री के दांव से फंसी मतगणना अमले की गर्दनwww.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-counting-staff-trapped-by-union-minister-bet-bareilly-news-19496667.html

पहले भी कह चुके धांधली हुई : धर्मेंद्र यादव 
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के चचेरे भाई एवं बदायूं के पूर्व सांसद धर्मेद्र यादव ने भी बरेली की गिनती से जुड़े विवाद में दखल दिया है। उन्होंने फोन पर बातचीत में कहा कि मतगणना में निश्चित धांधली हुई है। हम इसकी शिकायत मतगणना के दौरान ही कर चुके हैं। चुनाव याचिका लेकर कोर्ट भी गए हैं। जहां सुनवाई शुरू हो चुकी है। अब केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने जिस तरह एक बूथ की गिनती पर सवाल खड़ा किया है, उससे साबित हो गया कि मतगणना में गड़बड़ी के आरोप सही हैं।
पूर्व सांसद ने कहा कि आयोग के निर्देश पर चुनाव प्रक्रिया सुदृढ़ तरीके से कराई जाती है। उसमें भूल-चूक की गुंजाइश नहीं होती। जनता पांच साल के लिए अपना प्रतिनिधि चुनने को वोट देती है। ऐसे में उसने वोट किसी को दिया और दर्ज किसी और के खाते में कर दिया गया तो ऐसा करने का अधिकार प्रशासन को नहीं है। गलती पर यह कह देना कि आंकड़ा ऊपर नीचे हो गया, बहुत खराब रवैया है। बरेली लोकसभा अकेली नहीं बल्कि देशभर की 250 सीटों पर वोटिंग मशीन से गड़बड़ी कराई गई है।


कालीबाड़ी का विष्णु बाल सदन जहां हुआ था मतदान। जागरण 

कालीबाड़ी के लोग हैरान... अरे! सिर्फ पांच वोट
जिस विष्णु बाल सदन जूनियर हाईस्कूल में बूथ नंबर 290 की वोटिंग हुई थी। उसी के पास रहने वाले लखी पटवा इस बात से हैरान हैं कि इतनी बड़ी गलती प्रशासन में बैठे जिम्मेदार लोगों से कैसे हो सकती है। उनका कहना है कि इसकी जांच होनी चाहिए। कहते हैं कि जागरण के जरिये जब मामला चर्चा में आया तो वार्ड में भाजपा को मिले वोट देख चौंक गए। उनके घर से ही करीब 21 वोट भाजपा प्रत्याशी के लिए पड़े थे मगर, सरकारी मशीनरी ने महज पांच वोटों का आंकड़ा दिखाया था। लखी पटवा जैसे यहां पर तमाम ऐसे लोग है जो सरकारी मशीनरी की कारगुजारी से हैरत में हैं।

विष्णु बाल सदन में हमेशा भाजपा का सबसे ज्यादा वोट मिलते रहे हैं। अगर प्रशासन यह कह रहा है कि आंकड़े ऊपर नीचे हो गए तो इसकी जांच होनी चाहिए। - नानक चंद, कालीबाड़ी
स्कूल में वोटिंग हुई थी। इतने कम वोट का तो सवाल ही नहीं था। मंत्री जी ने पकड़ा तो मामला सामने आ गया वरना जिम्मेदारों ने लोगों के फैसले को ही उल्टा दिखा दिया था। - कृष्ण गोपाल शर्मा, कालीबाड़ी
भाजपा नेता प्रभुदयाल लोधी ने पहले भी कहा था कि पार्टी को इतने कम वोटों मिलने की जांच होनी चाहिए लेकिन तब किसी ने ध्यान नहीं दिया। प्रशासन अब कठघरे में है। -शंकर लाल, पार्षद पति
कालीबाड़ी में भाजपा को इतने कम वोट मिलना आशंकित करता है। जब आंकड़े ऊपर नीचे हो सकते हैं तो कम ज्यादा क्यों नहीं। मामले की जांच होनी चाहिए। - बिरजू, निवासी, आजम नगर

मंगलवार को डीएम से मिलकर 17 बूथों की गिनती का आंकड़ा फिर से दिखवाए जाने की मांग करेंगे। -भगवत सरन गंगवार, लोकसभा चुनाव में सपा प्रत्याशी

सब कुछ है गोलमाल : भगवत सरन गंगवार 
सपा के लोकसभा प्रत्याशी भगवत सरन गंगवार ने कहा है कि सब गोलमाल चल रहा है। पहले जो हमें लिस्ट मुहैय्या कराई गई थी, उसमें कई बूथ का आंकड़ा कुछ और था और जब बाद में हमने लिस्ट मांगी तो उसमें पड़े हुए मतों का आंकड़ा कुछ और निकला। नवाबगंज के प्राइमरी पाठशाला समूहा के कमरा नंबर एक में पुरानी लिस्ट में पड़े हुए मतों का आंकड़ा 656 दर्शाया गया था लेकिन जो नई लिस्ट दी गई उसमें यह आंकड़ा 596 है। इसी तरह से प्राइमरी पाठशाला पनुआ में 720 की जगह 735 वोट दर्शाए गए।

यह भी पढ़ें : सूबे के वित्त मंत्री के मुहल्ले में केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार को मिले थे सिर्फ पांच वोट www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-santosh-got-just-five-votes-in-the-state-finance-ministers-locality-bareilly-news-19493905.html

यह है पूरा मामला 
केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने डीएम वीरेंद्र कुमार सिंह को पत्र लिखकर कहा है कि कालीबाड़ी के लोगों ने उनसे मिलकर बताया कि विष्णु बाल सदन के बूथ संख्या 290 पर ज्यादातर ने भाजपा को वोट किया है। उसके बावजूद कमल पर पांच जबकि साइकिल के खाते में 583 वोट दर्ज हुए हैं। कांग्रेस प्रत्याशी प्रवीण सिंह ऐरन को 29 वोट मिले। ऐसे में गिनती में चूक होना प्रतीत हो रहा है। अगर ऐसा जानबूझकर किया है तो मतगणना करने वाले जिम्मेदार कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए और गिनती को दुरुस्त करें।

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप