जेएनएन, बरेली : लोकसभा चुनाव 2019 में रुहेलखंड मंडल में विपक्षी दलों के मोदी पर तमाम वार के बाद अाखिरकार शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पटलवार को बरेली पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस और सपा-बसपा व रालोद गठबंधन पर जमकर हमला बोला। वहीं, पूरे माहौल को भाजपा के पक्ष में करने का प्रयास किया। इस दौरान स्थानीय से लेकर राष्ट्रीय मुद्दों पर विपक्षी दलों को कठघरे में खड़ा कर एक बार फिर मोदी सरकार को मौका देने की अपील की। 

देवचरा में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर करारा वार किया। उन्होंने न कांग्रेस को बख्शा और न सपा-बसपा गठबंधन को। कहा कि कांग्रेस ने हिंदुओं को आतंकी बताकर धर्म को पूरी दुनिया में बदनाम किया है। वे जम्मू के लिए अलग प्रधानमंत्री की मांग कर रहे हैं। देशद्रोह की कानून समाप्त करने की मांग कर रहे। ऐसे लोगों को परास्त करना है। सपा-बसपा के लिए कहा कि जब उनकी सरकारें उत्तर प्रदेश में रहीं तो दर्जनों घोटाले हुए।

इससे पहले जनसभा में अपना संबोधन शुरू करते हुए कहा जहां-जहां मेरी नजर पहुंच रही है लोग ही लोग नजर आ रहे हैं। क्या कमाल कर दिया आप लोगों ने। आपका यह प्यार, आपका समर्थन अच्छे अच्छों की नींद खराब कर रहा है। रामगंगा के पावन जल से जीवन पाने वाली पवित्र धरा को मेरा नमन। बाबा अलखनाथ, त्रिवटीनाथ का आर्शीवाद हम सब पर बना रहे। मेरी यही कामना है। यहां आंवला के साथ बरेली व पीलीभीत से आए लोगों से आर्शीवाद लेने आया हूं।

विपक्षी 50-50 का मैच खेलने चले थे, जनता ने पवेलियन भेज दिया

दो चरणों के मतदान के बाद इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में आपका यह समर्थन कुछ लोगाें को पराजय पहले से स्वीकार करने का मजबूर कर रहा है। हम सो नहीं पाते होंगे वो लोग। अब उन लोगों को अपनी गलती पर पछतावा होने लगा है कि इससे अच्छा था कि अकेले ही अकेले तो लड़ लेते। ताकि कुछ कहने को तो बच जाता। कहां 50-50 का मैच खेलने चले थे और कहां असली खेल शुरू करने से पहले ही जनता ने पवेलियन वापस भेज दिया है। एक को पहले ही बॉल में निकाल दिया और दूसरे को दूसरी-तीसरी बॉल में पूरा कर दिया। दो चरण के मतदान के बाद उनका चेहरा लटक गया था। टीवी पर आप लोगों ने देखा ही होगा। पहले जो लोग मुझे गाली देते थे अब वो इलेक्शन कमिशन पर गुस्सा कर रहे है। कुछ लोगों ने तो अभी से ईवीएम मशीन को गाली देना शुरू कर दिया है। ये जब शुरू हो जाएं तो कि समझ जाईये... मामला गड़बड़ है। जनता उनके साथ नहीं है। घर में बच्चा भी जब परीक्षा देने जाता है तो रास्ते में सोचता है कि मां-बाप को क्या समझाऊं कि आज बेंच ठीक नहीं थी। पेन खराब हो जा रही थी, बाजू वाला लड़का गड़बड़ कर रहा था इसलिए लिखने में मजा नहीं आ रहा था। वो एेसा वातावरण बना देता है कि रिजल्ट आए तो माता-पिता ज्यादा डांटे नहीं। विरोधी अभी से पराजय के कारण ढूंढने में लगे हैं कि क्या कहेंगे। ऐसा मोदी रोलर आया है कि सब साफ हो रहा है। लोगों से पूछा आप के यहां यही माहौल है ना। 

2014 के बाद बढ़ गई देश की प्रगति की गति

प्रधानमंत्री ने कहा कि जनता ने 2014 में हम पर भरोसा किया। आज देश की प्रगति की गति बढ़ गई है। इसे माेदी ने नहीं बदला बल्कि देश के लोगों ने बदला है। इसे बदला है हमारे युवाओं ने। लोगों ने उस सोच को बदला है कि भारत में कुछ भी नहीं हो सकता। 2014 से पहले अगर कोई कहता है कि पांच सालों में भारत के हर घर में शौचालय पहुंच जाएगा तो कोई भरोसा नहीं करता। मगर आज पहुंच गया है। पांच साल पहले कोई सोच भी नहीं सकता था कि कोई प्रधानमंत्री झाड़ू पकड़ सकता है। 2014 से पहले अगर कोई कहता है गरीब का इतनी आसानी से बैंक का खाता खुल सकता और उसमें पैसा जमा हो जातें तो काई विश्वास नहीं करता। 2014 से पहले काेई सोच भी नहीं सकता था कि गांवों में लोगों के हाथ में स्मार्ट होगा और इंटरनेट उसके लिए सामान्य सी बात होगी। यह तभी संभव हो पाया जब आप लोगों ने मजबूत सरकार को पूर्ण बहुमत देकर सत्ता सौंपी। वोट बैंक की राजनीति करने वाले दलों की मान्यताओं को पूरी तरह तोड़ दिया। 2014 लोकसभा और 2017 उप्र विधानसभा चुनाव में जात-पात, क्षेत्रवाद की सारी सीमाएं टूट गई थीं। यही भारत की ताकत बना है। 

नाथ संतों की कर्मस्थली रहा है बरेली और आंवला

बरेली और आंवला नाथ संतो की कर्मस्थली रहा है नाथ संतों का जात पात के विरुद्ध एक स्पष्ट आग्रह था कि सभी को बराबरी का हक मिले, सम्मान मिले यह रास्ता नाथ संतो ने ही दिखाया। यही काम भाजपा सरकार ने किया है आपके इस चौकीदार ने किया है। 

जो सरकार रोती हैं उनकी दुनिया में कहीं सुनवाई नहीं होती 

सबका साथ, सबका विकास... हमारा आग्रह भी है हमारा अाचरण भी। हमारी योजनाओं ने सभी वर्गों को आगे बढ़ाया है। पूरे समाज को मजबूत किया है। ये मजबूत समाज ही मजबूत राष्ट्र का निर्माण कर रहा है। पूर्व की कांग्रेस सरकार पर तंज कसते हुए कि आज मजबूत राष्ट्र की दुनिया भर में सुनवाई होती है। वहीं, जो रोते रहते हैं उनकी दुनिया में कहीं भी सुनवाई नहीं होती। देश दमदार तभी होता है जब देश एकजुट होता है। देश की सेना मजबूत होती है। उसे अपने फैसले लेने की खुली छूट होती है। लोगों से पूछा कि अापको मेरी बात भरोसा है कि नहीं। अाज हमारी सेना मजबूत है कि नहीं। आज हमारा दम दुनिया मान रही है कि नहीं।

भाजपा आतंकवाद हटाना चाहती, कांग्रेस कश्मीर से सेना

बरेली तो सेना और सैनिकों की धरती है। शहीदों के निशान यहां है। शौर्य की गौरवगाथाएं यहां है। हम रक्षकों को सम्मान देने वाले लोग है। जो राष्ट्र रक्षा में काम आते हैं उनके प्रति हम नतमस्तक रहने वाले लोग है। मगर राजनीति के लिए कांग्रेस के नेता और सपा-बसपा के लोग क्या-क्या बातें करते हैं। हम आतंकवाद हटाने की बात करते हैं, कांग्रेस कश्मीर से सेना हटाने की बात करती है। हिंसा वाले क्षेत्रों में सेना को जो छूट मिली है कांग्रेस उसे हटाना चाहती है। अगर यह हो गया तो पत्थरबाजों से लड़ने के बजाय हमारे सैनिक कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाते रह जाएंगे। 

Posted By: Abhishek Pandey