बरेली, जेएनएन। MJPRU News: कोरोना संक्रमण ने हर वर्ग व आयु के लोगों को प्रभावित किया। महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय अब महिलाओं के सामाजिक-आर्थिक और स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों पर कोविड-19 महामारी के हुए प्रभाव पर शोध करने जा रहा है। जिसमें जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों का एक अध्यन किया जाएगा। यह शोध तीन वर्ष में पूरा किया जाना है।

कला संकाय के मानवीकि विभाग की विभागाध्यक्ष डा. अनीता त्यागी के इस शोध को रिसर्च एंड डेवलपमेंट योजना के तहत चयनित किया गया है। तीन वर्ष के इस प्रोजेक्ट में कुल पांच लाख रुपये खर्च होने हैं। जिसमें से प्रथम किस्त के रुप में 1,78,000 रुपये जारी कर दिए गए हैं। खुद कोरोना संक्रमित होने के बाद से इस शोध को करने का उन्हंने विचार किया। इसके साथ ही इस शोध को करने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा। डा. अनीता त्यागी ने बताया कि उनके इस शोध को शासन से स्वीकृति देने के साथ ही वहां से अधिकारियों ने इस तरह के शोध करने के लिए काफी सराहना भी की है। वह इस पर एक पुस्तक भी लिख रही हैं। जिसका जल्द ही प्रकाशन किया जाएगा।

Edited By: Ravi Mishra